मिशन 2024 के लिए धामी सरकार का एजेंडा तय

0
437

  • यूसीसी और क्ष्ौतिज आरक्षण बिल जनवरी में होंगे पारित
  • मंत्रिमंडल विस्तार व दायित्वों का होगा बटवारा

देहरादून। सिलक्यारा सुरंग हादसे के सफल रेस्क्यू और ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के सफल आयोजन के जरिए जनता की वाहवाही और केंद्रीय नेतृत्व का आशीर्वाद लेने में कामयाब रहे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और उनकी सरकार का टारगेट अब मिशन 2024 फतह करना है। अगर भाजपा 2024 में अपने पुराने प्रदर्शन को दोहराने में सफल हो जाती है तो फिर वह निश्चितता के साथ न अपनी वर्तमान पाली को खेल सकेंगी बल्कि उसके लिए भविष्य की राजनीति के लिए आगे के तमाम द्वार भी खुल सकेंगे।
मिशन 2024 की तैयारियों में जुटी प्रदेश भाजपा के लिए यूं तो लंबे समय से अनेक चुनावी कार्यक्रम गतिमान है लेकिन संगठन के साथ—साथ सरकार भी चुनाव से पहले किए जाने वाले ऐसे एजेंडें तय करने में जुटी है जो मिशन 2024 की राह को आसान बना सके। भाजपा जिसके बारे में कहा जाता है कि वह सही समय पर सही फैसला तो लेती ही है इसके साथ ही हर काम के लिए कौन सा समय सबसे मुफीद रहेगा यह भी तय करती है। उत्तराखंड में सवा साल पहले विधानसभा चुनाव के समय जो यूसीसी लाने का वायदा किया गया था उसे अब सरकार 2024 के आम चुनाव से पहले पूरा करने की तैयारी में है। सरकार चाहती तो इसे वह बहुत पहले ला सकती थी क्योंकि इसका ड्राफ्ट समिति के पास लंबे समय से तैयार पड़ा है। लेकिन अब सरकार जनवरी 2024 में आयोजित किए जाने वाले विशेष सत्र में इसे लाने की तैयारी में है। वहीं राज्य आंदोलनकारी के क्ष्ौतिज आरक्षण बिल को सरकार इसी सत्र में पारित कराएगी। जो लंबे समय से लटका हुआ है। सरकार का मानना है कि यूसीसी का राज्य में लागू किया जाना और आंदोलनकारियोंंंंंंंंंंं को 10 फीसदी क्ष्ौतिज आरक्षण दिया जाना दोनों फैसलों का असर लोकसभा चुनाव पर पढ़ना तय है।
भाजपा द्वारा इन दोनों ही मुद्दों पर आम लोगों की राय जान ली गई है। भाजपा के लिए यह दोनों ही मुद्दे बड़े चुनावी लाभ वाले साबित होने जा रहे हैं। इसके अलावा सरकार जिस मंत्रिमंडल विस्तार के मुद्दे पर अब तक चुप्पी साधे बैठी रही है उसका भी मुफीद समय अब नजदीक आ चुका है। मंत्रिमंडल में खाली पड़े इन पदों को नए साल के शुरुआत में ही भरा जा सकता है। वही दायित्व बांटने के काम में अब तेजी देखने को मिल सकती है। मुख्यमंत्री धामी अब तक कार्यकाल में स्वयं को अब तक का सबसे बेहतर मुख्यमंत्री साबित करने में कामयाब रहे हैं। पीएम मोदी और गृहमंत्री अब तक कई बार उन्मुक्त कंठ से उनकी तारीफ कर चुके हैं। उत्साह से लबरेज धामी अब लंबी छलांग लगाने की तैयारी में है और इसके लिए उन्होंने मिशन 2024 के लिए अपना एजेंडा सेट कर दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here