श्रद्धा मर्डर केस ने भुला दिया अंकिता मर्डर केस

0
76

पहाड़ की बेटी को न्याय दिलाने के बड़े—बड़े दावे कहां गए


सबकी जुबान व खबरों में अब सिर्फ श्रद्धा मर्डर केस
आफताब को देहरादून लाएगी दिल्ली पुलिस

देहरादून। अंकिता भंडारी मर्डर केस को अभी सिर्फ दो महीने का ही समय बीता है। कल तक जिस पहाड़ की बेटी को न्याय दिलाने के लिए कैंडल मार्च, धरने—प्रदर्शन किए जा रहे थे और नेताओं द्वारा परिजनों को पहाड़ की बेटी को इंसाफ दिलाने के बड़े—बड़े दावे किए जा रहे थे, आज उसके लिए अगर कोई न्याय की लड़ाई लड़ने वाला बचा है तो उसके माता—पिता ही शेष बचे हैं। जो हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटा कर बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं। तीन दिन पहले प्रकाश में आए दिल्ली के श्रद्धा मर्डर केस की गूंज अब पूरे देश और प्रदेश में दिख रही है तथा अंकिता मर्डर केस खबरों से पूरी तरह गायब हो गया है जैसे कि अंकिता को न्याय मिल चुका हो।


अंकिता के मर्डर से पूर्व वनंतरा में आने वाले उस वीआईपी जिसको स्पेशल सर्विस देने के लिए अंकिता पर दबाव बनाने की बात सामने आई थी वह कौन था यह अब शायद रहस्य ही बना रहेगा? मर्डर केस के खुलासे वाली रात को वनंतरा पर बुलडोजर चलाकर साक्ष्य मिटाने से लेकर डीएम का ट्रांसफर कराने, अंकिता के परिजनों पर क्राउडफंडिंग जुटाने के आरोपों तक हर रोज अब यह केस कमजोर होता जा रहा है। परिजन हाईकोर्ट में साफ कर चुके हैं कि उन्हें एसआईटी व पुलिस जांच पर कोई भरोसा नहीं रहा है। लेकिन अभी तक सीबीआई जांच के आदेश नहीं हो सके हैं। ऐसा लगता है कि कुछ अदृश्य ताकतें है जो आरोपियों को बचाने में जुटी हैं तथा केस के संपूर्ण खुलासे से बचने के प्रयास में जुटी हैं, ऐसे में अंकिता भंडारी को न्याय अब कौन दिलाएगा यह एक बड़ा सवाल है।
उधर अब श्रद्धा मर्डर केस के बाद तो अंकिता मर्डर केस एक तरह से दब सा ही चुका है। श्रद्धा हत्याकांड के आरोपी आफताब को दिल्ली पुलिस देहरादून लाएगी। इस सनसनीखेज मामले को लेकर पुलिस को आरोपी के खिलाफ सबूत जुटाना मुश्किल हो रहा है क्योंकि आफताब द्वारा अत्यंत ही शातिराना तरीकेे से घटना को अंजाम दिया गया है तथा साक्ष्य मिटाने का काम किया गया है। अब पुलिस गिरफ्त में आने के बाद वह साइको होने का नाटक कर रहा है तथा हर पल बयान बदल रहा है। अब तक वह हत्या के कई कारण बता चुका है।
पुलिस उसकी 5 दिन की रिमांड बढ़वाने और नारकोटेस्ट की मंजूरी ले चुकी है लेकिन दिल्ली पुलिस छतरपुर के जंगलों की खाक छानने से लेकर उसके फ्लैट और अब मुंबई तक टीम भेजकर साक्ष्य जुटाने में लगी है। श्रद्धा की हत्या से पहले आफताब श्रद्धा को लेकर ऋषिकेश के शिवपुरी आया था तथा वशिष्ठ गुफा भी गया था तथा 11 मई को वहां से हिमाचल चला गया था। साक्ष्य की तलाश में अब दिल्ली पुलिस उसे देहरादून लाने की तैयारी कर रही है। पुलिस को उम्मीद है कि उसे देहरादून और हिमाचल से कुछ साक्ष्य मिल सकते हैं। बताया यह भी जा रहा है कि हत्या के बाद ही आफताब देहरादून आया था और यहां भी मसूरी क्षेत्र के जंगलों में उसने श्रद्धा के बॉडी पार्ट्स फेंके थे।
श्रद्धा हत्याकांड की गुत्थी को सुलझाने में जुटी पुलिस को इस बात का तो पूरा यकीन हो चुका है हत्या आफताब द्वारा ही की गई और हत्या का तरीका दिल दहला देने वाला था, लेकिन उसके खिलाफ दोष सिद्ध करने के लिए साक्ष्य जुटाना बेहद ही मुश्किल काम है क्योंकि उसके द्वारा सारे सबूत मिटाए जा चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here