मनीष खंडूरी ने छोड़ा कांग्रेस का हाथ

0
98
  • सभी पदों से दिया इस्तीफा, भाजपा में जाने की चर्चा

देहरादून। लोकसभा चुनाव से ऐन पूर्व आज उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस को उस समय बड़ा झटका लगा जब पूर्व सीएम भुवन चंद खंडूरी के पुत्र मनीष खंडूरी ने कांग्रेस से अपना नाता तोड़ लिया। मनीष खंडूरी ने इसकी जानकारी अपने सोशल मीडिया के माध्यमों से दी है। जिसमें उन्होंने सभी पदों से इस्तीफा देने की बात कही है।
नई राजनीतिक सोच के साथ कांग्रेस का हाथ थामने वाले मनीष खंडूरी ने कांग्रेस का हाथ और साथ क्यों छोड़ा इस बात की जानकारी न तो उनके द्वारा दी गई है और न ही कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करन माहरा को इस बाबत कोई जानकारी है। कांग्रेस ने उन्हें 2019 के चुनाव में गढ़वाल सीट से चुनाव मैदान में उतारा था लेकिन कांग्रेस इस चुनाव में गढ़वाल सहित सभी पांचो सीटों पर चुनाव हार गई थी।
उनके इस्तीफे की खबर आते ही कांग्रेस खेमे में हड़कंप मच गया। क्योंकि कांग्रेस 2019 में हार के बावजूद भी उन्हें गढ़वाल सीट से मैदान में उतारना चाहती थी। कांग्रेस द्वारा अभी किसी भी सीट के लिए प्रत्याशी तय नहीं किए गए हैं तथा एक—दो दिनों में नामों की घोषणा होने वाली है। लेकिन इससे पहले ही मनीष खंडूरी द्वारा कांग्रेस की सदस्यता से इस्तीफा दे दिए जाने से कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है।
उनके कांग्रेस छोड़ने के बारे में जब कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करन माहरा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि उन्हें भी इसकी जानकारी सोशल मीडिया के जरिए ही हुई है। इसलिए वह इस सवाल का जवाब देने में असमर्थ है कि उन्होंने इस्तीफा क्यों दिया है। माहरा ने कहा है कि मनीष खंडूरी अच्छे नेता है तथा पार्टी ने उन्हें भरपूर सम्मान दिया है। पार्टी क्यों छोड़ी इसका कारण वही जान सकते हैं। माहरा ने कहा कि उनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि भाजपा की रही है, हो सकता है कि कोई पारिवारिक दबाव रहा हो। उधर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भटृ का कहना है कि मनीष अच्छे नेता है और अच्छे नेताओं कि कांग्रेस में कोई जरूरत नहीं रही है। उन्होंने कहा कि मैं तो उन्हें पहले ही कहता था कि कांग्रेस आपके लिए उचित जगह नहीं है। उन्होंने कहा कि वह भाजपा में आते हैं तो पार्टी में उनका स्वागत है।

खंडूरी का जाना दुखदः प्रीतम

देहरादून। कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह का कहना है कि मनीष खंडूरी का पार्टी छोड़कर जाना निसंदेह दुखद है, वह अच्छे नेता है। उन्होंने कहा कि परिवार का कोई सदस्य जब परिवार छोड़कर चला जाता है तो निश्चित तौर पर परिवार कमजोर होता है। लेकिन वह कांग्रेस छोड़कर क्यों गए? इसका क्या कारण रहा इसकी हमें जानकारी नहीं है लेकिन यह अत्यंत ही दुखद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here