मंगलमय हो हर दीपोत्सव

0
98

यूं तो हमारी सनातन संस्कृति में अनेकानेक त्यौहार व पर्वों की भरमार है लेकिन दीप पर्व दीपावली न सिर्फ उत्साह और उमंग को लेकर बल्कि अपने भव्य वैभव के कारण अपनी अलग पहचान और महत्व रखता है। शहरों से लेकर गांव—गली—चौबारों तक इस दीप पर्व के उत्साह और उमंग को महसूस किया जा सकता है। दीपावली स्वच्छता का पर्व है, ज्ञान के उजालों का पर्व है, सद्भाव का पर्व है। यही कारण है कि दुनिया भर के लोग कहते हैं कि अगर भारत को देखना है तो यहां एक दीपावली जरूर मनाए। चारों तरफ हर घर, गली और मोहल्ले में आपको जिस तरह की चकाचक सफाई दीपावली पर दिखाई देगी वैसी अन्य अवसरों पर कभी नहीं देखी जा सकती। हर चेहरे पर खुशी और जो मुस्कान इस पर्व पर दिखेगी वैसी अन्य किसी पर्व पर नहीं दिखेगी। दीपों के आलोक में हर तरह उजियारे का जो एहसास आप दीपावली पर करते हैं। शायद वैसा अन्य किसी अवसर पर आप महसूस नहीं कर सकते। इस दीपोत्सव को मनाने के पीछे भले ही चंद कथाएं हो लेकिन इस दीपोत्सव के निहितार्थ अनेकानेक है। इस पर्व को ज्ञान का पर्व भी आप कह सकते हैं और अज्ञान को दूर भगाने के लिए इसे ज्ञान के दीप जलाए जाने के रूप में भी देख सकते हैं। जनकवि गोपालदास नीरज की एक कविता जिसमें उन्होंने लिखा है ट्टजलाओ दिए पर रहे ध्यान इतना अंधेरा धरा पर कहीं रह न जाए? एक ऐसा ही संदेश देता है कि धरती पर जब तक भी अज्ञानता का अंश शेष है तब तक ज्ञानरूपी दिए जलाए जाते रहने चाहिए। आप हम सभी ने यह गीत भी सुना होगा दीप से दीप जलाते चलो अंधेरा धरा से मिटाते चलो, निश्चित तौर पर यह दीपोत्सव हम सभी को सांप्रदायिक सद्भाव और परस्पर प्रेम के साथ रहने और एक दूसरे के काम आने का संदेश देता है। सुख और समृद्धि का प्रतीक है दीपावली जिसमें हम सभी गणपति से सबके मंगल की कामना करते हैं। वही मां लक्ष्मी से सबकी समृद्धि की प्रार्थना करते हैं। बीते 2 सालों में कोरोना महामारी के कारण जो सामाजिक ढांचा छिन्न—भिन्न हो गया था न कोई त्यौहार न पर्व सब कुछ बंद हो गया अब 2 साल बाद जो दीपावली का उत्सव मनाने का अवसर मिला है, उसके कारण भी इस बार दीपोत्सव का उत्साह ज्यादा है। बाजारों में भारी रौनक है, व्यापारी भी उत्साहित है उनका कारोबार पटरी पर आ रहा है। आर्थिक मंदी की मार के बीच देश की अर्थव्यवस्था का मजबूत बने रहना भी एक कारण है कि देश में चारों ओर दीपावली की धूम है। हर्ष उल्लास है, रंग है रंगोली है, मिठाइयों की मिठास है और गुनगुनी धूप का एहसास भी। हर दीपावली आपके जीवन को यूं ही जगमग बनाती रहें इसी कामना के साथ दीप पर्व की शुभकामनाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here