स्वदेशी हल्के लड़ाकू विमान तेजस को खरीदने में रूचि दिखा रहे हैं 16 देश

0
93

नई दिल्ली। भारत के स्वदेशी हल्के लड़ाकू विमान तेजस एमके2 की मांग दुनिया भर में बढ़ गयी है. कम से कम 16 देशों ने तेजस एमके2 के विवरण के लिए भारत से संपर्क किया है। ये देश तेजस एमके2 के बारे में जानकारी लेने के बाद विमान को खरीदने में रूचि दिखा रहे हैं।
कई देशों की रूचि के बाद अब सरकार तेजस विमान की उत्पादन दर बढ़ाने के लिए अतिरिक्त एजेंसियों की पहचान करने के प्रयास कर रही है.
सितंबर में, कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी ने एलसीए एमके2 को भारतीय वायु सेना के लड़ाकू स्क्वाड्रनों में शामिल करने को अपनी मंजूरी दे दी, जो अंततः भारतीय वायु सेना के लड़ाकू स्क्वाड्रनों में एक महत्वपूर्ण अंतर को भर देगा जब मिग -29, मिराज 2000 जगुआर बेड़े लगभग एक दशक में सेवानिवृत्त होंगे। 4.5 पीढ़ी का लड़ाकू विमान – एलसीए तेजस का अधिक उन्नत घातक संस्करण – वर्तमान में डिजाइन विकास के चरण में है।
एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी (एडीए) के एलसीए एमके2 प्रोजेक्ट डायरेक्टर डॉ वी मधुसूदन राव ने मीडिया को बताया, भारत में पहले से ही 16 देशों से विमान के बारे में पूछताछ के साथ विमान की उत्पादन दर बढ़ाने पर केंद्र सरकार का बड़ा जोर है। उन्होंने कहा, हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के अलावा निजी उत्पादन एजेंसियों की पहचान करने के प्रयास जारी हैं, जो उन्नत विमानों के उत्पादन को बढ़ा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here