‘साइंटिफिक पेपर राइटिंग’ विषय पर एक दिनी कार्यशाला आयोजित

0
44

देहरादून। मन के विचारों को डायरी में लिपिबद्ध कर समय के साथ इन पर कार्य करते रहना चाहिए जिससे उत्पन्न सोच और इन्नोवेशन का विस्तार किया जा सके और ज्ञान को विज्ञान में रूपांतरित किया जा सके। यह विचार कार्यशाला के मुख्य अतिथि उत्तराखंड उच्च शिक्षा विभाग के संयुक्त निदेशक प्रो ए एस उनियाल ने `साइंटिफिक पेपर राइटिंग’ विषय पर आयोजित एक दिनी कार्यशाला के उद्घाटन सत्र में व्यक्त किये।
कार्यशाला प्रतिभागियों, शोधार्थियों एवं छात्रों को संबोधित करते हुए प्रोफेसर उनियाल ने कहा कि आपदा को अवसर व इन्नोवेशन में बदलने की पाइथागोरस की राइट ट्रायंगल थ्योरी हमें सीख देती है। इस पर उन्होंने नील नदी की बाढ़ से किसानों के खेतों को बहने और पुनःखेतों की माप के संकट से उपजी पाइथागोरस प्रमेय की रोचक कहानी उपस्थित जनों को सुनाई, उन्होंने महाविघालय के बच्चों को जीवन में स्मार्ट बनने का मंत्र भी दिया। इसके लिए उन्होंने सामाजिक सोच, चमत्कारी कार्य, आकर्षण, रिसोर्सफुल एवं समय पाबंद की अनिवार्य शर्तों को उपस्थित जनों के बीच साझा किया।
कार्यशाला के मास्टर ट्रेनर के रूप में प्रो अजय सेमल्टी ने साइंटिफिक पेपर राइटिंग के लिए क्रिटिकल ऑब्जर्वेशन, स्पष्टता, सरलता, अकादमिक भाषा ज्ञान, शोध पत्र अस्वीकार्यता से सीख का गुण अच्छे पेपर लिखने की अनिवार्य शर्त बताई। उन्होंने प्लेजीरिज्म (साहित्य चोरी) और शोध—पत्रो के छपास की प्रवृत्ति से दूर रहने की नसीहत भी दी। उन्होंने कहा कि मात्रात्मक शोध की बजाय हमें गुणात्मक शोध पर केंद्रित रहना चाहिए।
उत्तराखंड जन जागृति संस्थान के अरण्य रंजन ने कहा कि शोध का उद्देश्य जर्नल और पुस्तकालयों की शोभा बढ़ाना नहीं बल्कि स्थानीय समस्याओं के समाधान की ओर केंद्रित होना चाहिए।
कार्यशाला में प्रसिद्ध पादप विज्ञानी प्रो जी एस रजवार, प्रो जी के ढींगरा एवं डॉ आशीष रतूड़ी ने भी विषय विशेषज्ञ के रूप में विचार साझा किए।
इससे पूर्व मुख्य अतिथि द्वारा प्राचार्य एवं विषय विशेषज्ञों की उपस्थिति में दीप प्रज्वलन कर कार्यशाला का शुभारंभ किया गया।
कॉलेज प्राचार्य प्रोफेसर राजेश कुमार उभान ने जय जवान,जय किसान एवं जय विज्ञान के उदघोष के साथ सभी आगंतुकों का स्वागत किया। कार्यशाला की संयोजक डॉ रश्मि उनियाल ने कार्यशाला के उद्देश्य से सभी प्रतिभागियों को अवगत किया।
इससे पूर्व नवनिर्वाचित छात्र संघ एवं कालेज की वरिष्ठ प्राध्यापिका डॉ सपना कश्यप ने मुख्य अतिथि को बैच अलंकरण और पुष्प गुच्छ भेंट कर स्वागत किया। इसी क्रम में अन्य विशेषज्ञों प्रो जी एस रजवार, प्रो जी के ढींगरा प्रो अजय सेमल्टी डॉ आशीष रतूड़ी ,डॉ गुरुपद गुसाईं डॉ नौटियाल एवं कालेज प्राचार्य प्रो उभान को डॉ विक्रम सिंह बर्त्वाल एवं कालेज प्राध्यापकों द्वारा पुष्प गुच्छ और बैच अलंकृत कर सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम का संचालन छात्रा रिया भंडारी ,सूरज एवं प्राध्यापकों में डॉ संजय महर डॉ सृचना सचदेवा एवं सोनिया गंभीर ने किया। कार्यशाला की सफलता के लिए रश्मि उनियाल ने सभी प्रतिभागियों तथा कालेज परिवार का आभार प्रकट किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here