जोशीमठ को लेकर केंद्र, राज्य सरकार का कोई अधिकारी मीडिया को जानकारी या ब्रीफ नहीं देगा !

0
68


नई दिल्ली। जोशीमठ आपदा को लेकर नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (एनडीएमए) ने नया आदेश जारी किया है। जारी आदेश के मुताबिक, जोशीमठ के हालात को लेकर केंद्र से लेकर राज्य सरकार तक का कोई भी अधिकारी मीडिया को जानकारी या ब्रीफ नहीं देगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की रिपोर्ट के बाद एनडीएमए ने यह फैसला लिया है। एनडीएमए की रिपोर्ट के बाद इसरो ने अपनी साइट से कल जारी की रिपोर्ट को हटा लिया है।
इसरो ने जोशीमठ की उपग्रह तस्वीरें जारी की थीं, जिसमें दिखाया गया था कि यह 27 दिसंबर 2022 से 8 जनवरी 2023 के बीच 5.4 सेमी नीचे डूब गया, लेकिन अब इसरो की यह रिपोर्ट रहस्यमय तरीके से उसकी वेबसाइट से गायब हो गई है। इसरो की तरफ से जारी उपग्रह तस्वीरों से पता चलता है कि हिमालयी शहर केवल 12 दिनों में 5.4 सेमी धंस गया। जमीन धंसने की यह घटना संभवत: दो जनवरी से शुरू हुई।
इसरो के नेशनल रिमोट सेंसिंग सेंटर (एनआरएससी) की जांच में कहा गया है कि अप्रैल और नवंबर 2022 के बीच जमीन के धंसने की प्रक्रिया धीमी थी। इस दौरान जोशीमठ 8।9 सेमी तक धंसा था। हालांकि 27 दिसंबर 2022 और आठ जनवरी 2023 के बीच भू-धंसाव की तीव्रता में वृद्धि हुई और इन 12 दिनों में शहर 5।4 सेंटीमीटर धंस गया। ये तस्वीरें कार्टोसैट-2एस उपग्रह से ली गई हैं। एनआरएससी की रिपोर्ट में कहा गया है कि यह क्षेत्र कुछ दिनों के अंदर लगभग 5 सेमी धंस गया और अवतलन की क्षेत्रीय सीमा भी बढ़ गई है। यह हालांकि जोशीमठ शहर के मध्य भाग तक ही सीमित है। एनआरएससी की रिपोर्ट में कहा गया है कि एक सामान्य भूस्खलन आकार जैसे दिखने वाले एक धंसाव क्षेत्र की पहचान की गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here