रक्षा मंत्रालय सिख जवानों के लिए खरीदेगा 12,730 ‘वीर-हेलमेट’

0
55


नई दिल्ली। रक्षा मंत्रालय ने इमरजेंसी प्रोक्योरमेंट के तहत इसी महीने 5 जनवरी को सिख-सैनिकों के लिए खास बैलिस्टिक हेलमेट खरीदने की आरएफआई यानी टेंडर प्रक्रिया जारी की है। ये हेलमेट सिखों की सिर पर बांधी जाने वाली पगड़ी के ऊपर पहनने के लिए हैं, इसीलिए ये आकार में थोड़े अलग और बड़े हैं। रक्षा मंत्रालय ने करीब 13 हजार (12, 730) वीर-हेलमेट खरीदने का फैसला लिया है। इनमें से 8911 लार्ज-साइज के हैं और 3819 एक्सट्रा-लार्ज साइज के हैं।
रक्षा मंत्रालय के इस फैसले के बाद सिख संगठनों ने सिख सैनिकों की पहचान से छेड़छाड़ को लेकर सवाल खड़े किए हैं। श्री गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने इस बावत रक्षा मंत्री को पत्र लिखकर अपना ऐतराज भी जताया है। अकाल तख्त ने भी सिख सैनिकों के लिए विशेष हेलमेट पहनने पर आपत्ति जताई है लेकिन भारतीय सेना के विश्वसनीय सूत्रों ने बताया कि जम्मू-कश्मीर में काउंटर इंसर्जेंसी और काउंटर टेररिस्ट ऑपरेशन (सीआई-सीटी ऑप्स) में सिख सैनिक पहले से ही लोहे का बना एक खास पटका-नुमा हेलमेट अपनी पगड़ी के ऊपर पहनते आए हैं क्योंकि इस पटके से आतंकियों की गोलियों से काफी हद तक बचाव होता है। इसके अलावा एलओसी की फॉरवर्ड पोस्ट पर सैनिक ये पटका पहनते आए थे। वर्ष 2017 तक जम्मू-कश्मीर और एलओसी पर सभी सैनिक अपने सिर के बचाव के लिए ये पटका पहनते आए थे। वर्ष 2017 में रक्षा मंत्रालय ने कानपुर की जानी-मानी स्वदेशी कंपनी एमकेयू से मेक इन इंडिया के तहत डेढ़ लाख बैलिस्टिक हेलमेट खरीदने का करार किया था। कई दशक बाद सेना को ये आधुनिक हेलमेट मिलने का करार किया गया था जिसकी कुल कीमत करीब 170 करोड़ थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here