अव्यवस्थाओं पर भारी पड़ रही है आस्था

0
444

पहले सप्ताह रिकॉर्ड 3 लाख श्रद्धालुओं ने किए देव दर्शन
यात्रा पड़ाओ पर रोका जा रहा है यात्रियों को

देहरादून। भले ही चार धाम यात्रा के दौरान अव्यवस्थाओं का बोलबाला रहा हो और मौसम की खलनायकी राह का रोड़ा बन रही हो लेकिन चार धाम आने वाले श्रद्धालुओं की आस्था इन सब पर भारी पड़ रही है। यात्रा के शुरू होने के पहले ही सप्ताह में श्रद्धालुओं की संख्या ने अब तक के सारे रिकॉर्ड तोड़ डाले हैं। अब तक 3 लाख से अधिक श्रद्धालु चारों धामों में देव दर्शन कर चुके हैं।
जैसे कि संभावनाएं जताई जा रही थी कि इस बार की चार धाम यात्रा ऐतिहासिक होने वाली है इसका प्रमाण यात्रा के शुरुआती दौर में ही मिलने लगा है। 3 मई को गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खुले थे जबकि केदार धाम के कपाट 6 मई व बद्रीनाथ धाम के कपाट 8 मई को खुले हैं लेकिन जिस तरह चार धाम यात्रा के लिए श्रद्धा का सैलाब उमड़ रहा है उससे न सारी व्यवस्थाएं चरमरा गई हैं अपितु असमय हुई बारिश के कारण भी यात्रियों को भारी मुश्किलें हो रही है, इसके बावजूद भी श्रद्धालुओं के उत्साह में कमी होती नहीं दिख रही है।
केदारधाम जहां हर साल सबसे अधिक श्रद्धालु पहुंचते हैं 6 मई से लेकर अब तक 1 लाख 11 हजार से अधिक श्रद्धालु पहुंच चुके हैं। यहां हर रोज 15 से 20 हजार श्रद्धालु पहुंच रहे हैं ऐसा तब है जब प्रशासन द्वारा भीड़ के मद्देनजर पड़ाआें पर बड़ी संख्या में यात्रियों को आगे जाने से रोका हुआ है। क्षमता से अधिक श्रद्धालुओं के पहुंचने से दर्शनों का समय भी 5 घंटे बढ़ाना पड़ा है। वही बद्रीनाथ जिनके कपाट 8 मई को खुले हैं वहंा 4 दिनों में 65 से 70 हजार श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं। वही गंगोत्री पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की संख्या भी 70 हजार के पार हो चुकी है तथा 63 हजार श्रद्धालु यमुनोत्री पहुंच चुके हैं। सभी धामों में अब तक 3 लाख से अधिक श्रद्धालु पहुंच चुके हैं।
जहां तक रजिस्ट्रेशन की बात है तो अब मई माह में यात्रा के लिए आने की चाहत रखने वालों का रजिस्ट्रेशन भी नहीं हो पा रहा है उन्हें आगे की तारीख में रजिस्ट्रेशन कराने को कहा जा रहा है।
प्रमुख सचिव एसएस संधू का कहना है कि यात्रा को व्यवस्थित और सुचारू रूप से संचालित करने के लिए सभी धामों में 1 दिन में कितने यात्री दर्शन कर सकेंगे इसकी संख्या तय कर दी गई है। जिसके अनुसार केदारधाम में 13 हजार और बद्रीनाथ धाम में 16 हजार गंगोत्री में 8 व यमुनोत्री धाम में हर रोज 5 हजार यात्रियों को भेजा जा रहा है। उल्लेखनीय है कि कोरोना के कारण दो साल तक यात्रा बंद रहने के कारण भी इस साल श्रद्धालुओं की संख्या में इजाफा हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here