नहीं होगी कल पुरोला में महापंचायत

0
546

प्रशासन ने नहीं दी अनुमति, 19 जून तक धारा 144 लागू

देहरादून/पुरोला। गैर हिंदू समुदाय के युवाओं द्वारा नाबालिग हिंदू समुदाय की स्कूली छात्रा को बहला—फुसलाकर भगाने की कोशिश करने के मामले को लेकर बीते 26 मई से चले आ रहे विवाद को लेकर हिंदू संगठनों द्वारा कल 15 जून को की जाने वाली महापंचायत अब नहीं होगी। जिला प्रशासन द्वारा महापंचायत की अनुमति देने से इंकार कर दिया गया है। क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए आज 14 जून से 19 जून तक धारा 144 लागू कर दी गई है।
उल्लेखनीय है कि हिंदू संगठनों द्वारा 15 जून को इस मुद्दे पर महापंचायत बुलाने की घोषणा की गई थी, जिसे लेकर कई तरह की आशंकाएं जताई जा रही है। हिंदू संगठनों द्वारा पुरोला क्षेत्र में रहने वाले सभी मुस्लिम समुदाय के लोगों को 15 जून तक घर मकान और दुकानें भी खाली कराने का अल्टीमेटम दिया गया था। जिसके मद्देनजर 2 दर्जन से अधिक दुकानदार व व्यवसाई पुरोला से पलायन कर चुके हैं जिसे लेकर राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा जारी है।
विश्व हिंदू परिषद और प्रधान संगठनों द्वारा प्रशासन से कल होने वाली महापंचायत की अनुमति मांगी गई थी लेकिन कानून व्यवस्था की चुनौतियों के मद्देनजर अब प्रशासन द्वारा महापंचायत की अनुमति देने से साफ मना कर दिया गया है। तथा पूरे पुरोला क्षेत्र में आज से लेकर 19 जून तक धारा 144 लागू कर दी गई है।
प्रशासन द्वारा आज पहली कोशिश संबंधित लोगों को यही समझाने की की गई कि वह महापंचायत न करें और आमने—सामने बैठ कर समस्या के समाधान पर बात करें। लेकिन यह बैठक बेनतीजा ही है। हालांकि प्रशासन द्वारा स्थानीय लोगों की मांग पर बिना पंजीकरण के रेहड़ी—ठेली भी न लगाने और गांवों में फेरी करने पर रोक लगाने पर सहमति जताई गई थी। लेकिन पुरोला में घटना के दिन से बंद पड़ी दुकानों को प्रशासन अभी तक खुलवाने में कामयाब नहीं हो सका है तथा व्यापारियों का पलायन जारी है। मुस्लिम समुदाय के लोगों का साफ कहना है कि जो गलत है उन्हें सजा दी जाए इसमें किसी को कोई एतराज नहीं है, लेकिन जो लोग 30—30 साल से यहां रह रहे हैं और उनसे कोई शिकायत किसी को नहीं है तो उन्हें किस बात की सजा दी जा रही है।
फिलहाल पुरोला में शांतिपूर्ण तनाव की स्थिति बनी हुई है प्रशासन द्वारा अनुमति न देने और धारा 144 लागू किए जाने के बाद भी हिंदू संगठनों के लोग अब भी महापंचायत की बात तो कर रहे हैं लेकिन उनके तेवर नरम पड़ चुके हैं। प्रशासन द्वारा किसी भी स्थिति से निपटने की तैयारी कर ली गई है भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती से लेकर पुरोला जाने वाले सभी रास्तों पर पुलिस का कड़ा पहरा बैठा दिया गया है और बिना चेकिंग के किसी को भी पुरोला नहीं जाने दिया जा रहा है।


प्रशासन अपना काम कर रहा हैः धामी
देहरादून। पुरोला के घटनाक्रम पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि पुरोला या अन्य जगह जो भी घटनाएं सामने आई हैं प्रशासन उन सभी में ठीक से काम कर रहा है। आरोपियों पर कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि जब कानून अपना काम कर रहा है तो लोगों को कानून व्यवस्था को अपने हाथों में नहीं लेना चाहिए। प्रदेश में शांति और सद्भाव बनाए रखने में प्रशासन काम कर रहा है।


किसी को भी शांति भंग नहीं करने देंगेः डीजीपी
देहरादून। पुरोला के हालात और स्थिति पर डीजीपी अशोक कुमार का कहना है कि किसी को भी शांति व्यवस्था भंग करने की इजाजत नहीं दी जाएगी अगर माहौल खराब करने की कोशिश की गई तो सख्ती से निपटा जाएगा। सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं, धारा 144 लागू कर दी गई है। उन्होंने कहा कि जो भी कानून को तोड़ने का प्रयास करेगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। हमारी खुफिया एजेंसियां व पुलिस अधिकारी सतर्क हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की याचिका
देहरादून। पुरोला में होने वाली महापंचायत को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई याचिका को आज खारिज कर दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि कानून व्यवस्था राज्य सरकार का मामला है, आप हाई कोर्ट जाएं। उल्लेखनीय है कि अपूर्णानंद व अन्य द्वारा दायर की गई इस याचिका में प्रदेश की कानून व्यवस्था का मुद्दा उठाया गया था। सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता से पूछा कि आपको सरकार व प्रशासन पर भरोसा क्यों नहीं है।

स्वामी दर्शन भारती महापंचायत के लिए पुरोला रवाना
देहरादून। पुरोला में 15 जून होने वाली महापंचायत पर हालांकि प्रशासन द्वारा रोक लगाकर वहंा धारा 144 लागू कर दी गयी है। लेकिन हिन्दु संगठनों को विरोध में अपने चरम पर है। इस क्रम में महापंचायत की तय तारीख से एक दिन पूर्व आज साढ़े चार बजे देवभूमि रक्षा अभियान के धर्म रक्षकों के साथ स्वामी दर्शन भारती देहरादून से पुरोला रवाना हो गये है। देखना होगा कि हिन्दू संगठनोंं की यह महापंचायत प्रशासन सम्पन्न होने देगा या नहीं?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here