पुलिस का दावा: खालिस्तानी समर्थक थे प्रदर्शनकारी, हथियार लूटकर ले गए

0
264


चंडीगढ़। मोहाली-चंडीगढ़ बॉर्डर पर जिन सिख बंदियों की रिहाई को लेकर कौमी इंसाफ मोर्चा के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच हुई झड़प के बाद 7 प्रबंधकों के खिलाफ दर्ज एफआईआर में बड़ा खुलासा हुआ है। एफआईआर में प्रदर्शनकारियों द्वारा हथियारों के लूटने का आरोप लगाया गया है। एफआईआर में जिक्र किया गया है कि प्रदर्शनकारी शील्ड, हेलमेट, हथियार और टियर गैस ग्रेनेड और अन्य उपकरण भी साथ ले गए हैं। पंजाब पुलिस ने अपनी शिकायत में प्रदर्शनकारियों को खालिस्तानी समर्थक कहा है।
आज गुरुवार को भी कौमी मोर्चा के कार्यकर्ता सीएम आवास की ओर कूच करेंगे। जिसे देखते हुए स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए पैरामिलिट्री फोर्स को भी तैनात किया गया है। शिकायत में कहा गया है कि प्रदर्शनकारी खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे। हालांकि कौमी इंसाफ मोर्चा के पदाधिकारियों ने इस बात से इनकार किया है। प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने गैर इरादतन हत्या और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का मामला दर्ज किया है।
बुधवार को करीब 3 बजे चंडीगढ़ की ओर बढ़ने के लिए प्रदर्शनकारियों ने बैरिकेड्स के माध्यम से अपना रास्ता बनाने की कोशिश की थी, जिसके बाद झड़प शुरू हो गई थी। 7 जनवरी से सीमा पर बैठे कौमी इंसाफ मोर्चा ने तीन दिन पहले अपनी मांगों को लेकर दबाव बनाने के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री आवास की ओर कूच करने का आह्वान किया था। लगभग 1,000 प्रदर्शनकारी साइट पर एकत्र हुए थे। अचानक, भीड़ उत्तेजित हो गई और अपना रास्ता बनाने की कोशिश की जिसके बाद पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पानी की बौछारें और हल्का लाठीचार्ज किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here