पेंशनर्स ने ‘रास्ता रोको आंदोलन’ कर लगाया घंटाघर पर जाम, गिरफ्तार

0
206

देहरादून। मिनिमम पेंशन 7500 व महंगाई भत्ता सहित अपनी चार सूत्री मांगों को लेकर ईपीएस 95 पेंशनर्स ने रास्ता रोको आन्दोलन कर घंटाघर में जाम लगाया। जिसके बाद पुलिस ने उनको गिरफ्तार कर पुलिस लाईन पहुंचाया।
आज यहां ईपीएस 95 पेंशनर्स अपनी मांगों को लेकर परेड ग्राउंड स्थित पानी की टंकी के पास एकत्रित हुए। आज उन्होंने अपनी मांगों को लेकर रास्ता रोको आन्दोलन करने की रणनीति बनायी थी। परेड ग्राउंड से वह तिब्बती मार्केट, दर्शन लाल चौक होते हुए घंटाघर पर पहुंचे जहां पर उन्होंने सडक पर बैठकर रास्ता जाम कर दिया। जिससे दोनों तरफ वाहनों की लम्बी—लम्बी कतारें लग गये। इसी दौरान पुलिस प्रशासन ने मौके पर पहुंचकर उनको गिरफ्तार किया। गिरफ्तारी से पहले उन्होंने तहसीलदार सोहन सिंह रांगड ने मौके पर पहुंच उनसे ज्ञापन लिया। उन्होंने तहसीलदार के माध्यम से प्रधानमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया।

ज्ञापन में उन्होंने कहा कि एक तरफ भारत सरकार लोक कल्याण हेतु अनेकाेंं पेंशन योजना सुचारू रूप से चला रही है लेकिन ईपीएस कर्मचारियों ने उनकी पूरी सेवा के दौरान सरकारी नियमानुसार प्रति माह पेंशन फंड में पैसे जमा करवाए व इन वृद्ध पेंशनर्स को औसत पेंशन दी जाती है वह मात्र 1170 रूपये यह राशि इतनी कम है कि इससे पति पत्नी का जीवन यापन तो दूर इस वृद्धावस्था में इस राशि से औषधि उपचार का खर्च भी पूरा नहीं होता। उन्होंने कहा कि इस ईपीएस 95 योजना अंतर्गत फॉर्मूला अनुसार जो यह अल्प पेन्शन राशि तय की जाती है वहीं पेंशन आजीवन कायम रहती है इतनी कम पेंशन राशि में हम वृद्ध पेंशनर्स गुजारा करें तो कैसे? उन्होंने मांग की है कि मिनिमम पेंशन 7500 के साथ ही महंगाई भत्ता मंजूर करवाये, यदि आवश्यक है तो बजट में प्रावधान किया जाए या इसके लिए बिल पास किया जाए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट के 4 अक्टूबर 2016 व 4 नवम्बर 2022 के निर्णय की सही व्यवस्था करते हुए ईपीएफओ द्वारा लगाई गयी तथ्यहीन शर्तो को उपलब्ध ऑनलाईन सिस्टम से हटाकर वास्तविक वेतन पर उच्च पेंशन के विकल्प की सुविधा बिना किसी भेदभाव के ईपीएस 95 पेंशनर्स को प्रदान की जाए जिससे उन्हें सही अर्थो में न्याय मिल सके। इसके साथ ही सभी ईपीएस 95 पेंशनर्स को तथा उनके पत्नी—पति को मुफ्त मेडिकल सुविधा प्रदान की जाए। उन्होंने कहा कि जिन सेवा निवृत्ति कर्मचारियों को ईपीएस 95 योजना में शामिल नहीं किया है उन्हें उसका सदस्य बनाकर योजना में लाया जाये। गिरफ्तारी देने वालों में जिलाध्यक्ष टीएस बिष्ट, संजीव डोभाल, दिवाकर शाही, इंदूप्रकाश गौड, सूरज सिंह बंगारी, सुभाष शाह, अशोक अग्रवाल, टीएस रावत, दिनेश गुसांई, प्रेमसिंह पंवार, रमेश चंद डंगवाल, रजत कुमार, दिनेश ढौडियाल व टीवी चौधरी सहित अन्य लोग शामिल थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here