घाटी में राहुल भट की हत्या से गुस्से में हैं कश्मीरी पंडित

0
73

नई दिल्ली । जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों ने तहसील दफ्तर में घुसकर ३६ साल के राहुल भट पर गोलियां बरसा दी थीं। राहुल को हमले के तुरंत बाद अस्पताल पहुंचाया गया था, लेकिन इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। इस घटना ने कश्मीरी पंडितों का गुस्सा बढ़ा दिया है और गुरुवार को देर रात लोग प्रदर्शन करते रहे। राहुल भट के कत्ल के बाद बड़ी संख्या में कश्मीरी पंडित ट्रांजिट कैंपों से निकले और सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन किया। कैंडल मार्च निकाला और सरकार से उनकी रक्षा के लिए उपाय किए जाने की मांग की। १९९० में घाटी में आतंकवाद का उभार होने के बाद बड़ी संख्या में कश्मीरी पंडित पलायन कर देश भर के अलग-अलग हिस्सों में चले गए थे। कुछ परिवार ट्रांजिट कैंपों में ही ठहर गए। कश्मीरी पंडितों ने विरोध में मार्च निकालते हुए कहा कि इस घटना ने उन्हें दहशत में ला दिया है और उनके वापस अपने घर लौटने की कोशिशों को झटका लगा है। बडगाम जिले के चडूरा गांव में स्थित तहसीलदार ऑफिस में घुसकर आतंकियों ने राहुल भट पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी थी। गौरतलब है कि बीते कुछ महीनों में कई बार आतंकवादी कश्मीरी पंडित एवं दूसरे राज्यों से आकर बसे अन्य हिंदू समुदाय के लोगों को निशाना बना चुके हैं। मेडिकल स्टोर के मालिक की हत्या का मामला हो या फिर स्कूल में घुसकर टीचर और प्रिंसिपल पर फायरिंग की घटना, इन्होंने हिंदू समुदाय की चिंताओं को बढ़ा दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here