बेमौसम बारिश और बर्फबारी से बढ़ी मुश्किलें

0
58

किसानों की फसलों को भारी नुकसान
20 मार्च तक मौसम में सुधार संभव नहीं

देहरादून। बेमौसम बारिश, ओलावृष्टि और बर्फबारी से आम जनजीवन अस्त व्यस्त होने के साथ—साथ किसानों की फसलों को भारी नुकसान हुआ है वही तापमान में आई गिरावट से लोगों को मार्च के महीने में भी नवम्बर—दिसम्बर जैसी सर्दी का एहसास हो रहा है।
बीते कल शाम से मौसम ने ऐसी करवट बदली कि तेज हवाओं और आंधी के साथ झमाझम बारिश ने जनजीवन की रफ्तार पर लगाम लगा दी। सूबे की राजधानी देहरादून, मसूरी, हरिद्वार, पौड़ी और टिहरी में कल शाम से शुरू हुई बारिश का सिलसिला पूरी रात नहीं थमा और आज भी दिन भर रुक—रुक कर तेज बारिश का क्रम जारी है। वहीं राज्य के ऊंचाई वाले हिस्सों में भी बारिश, ओलावृष्टि और बर्फबारी हो रही है। मौसम में आए बदलाव के कारण तापमान में 5 से 10 डिग्री तक की गिरावट आने से लोगों को मार्च के महीने में नवंबर—दिसंबर जैसी सर्दी का एहसास हो रहा है। जिन लोगों ने अपने गर्म कपड़े उतार कर रख दिए थे वह फिर गर्म कपड़े पहनने पर विवश हो गए हैं। बद्रीनाथ और केदारनाथ में बीते कल से बारिश व बर्फबारी होने की खबर है। राज्य के कुछ स्थानों पर ओलावृष्टि भी हुई है।
राजधानी दून और आसपास के क्षेत्रों में तेज आंधी—तूफान के साथ हो रही बारिश के कारण कुछ क्षेत्रों में बिजली के तार टूटने और पेड़ों के गिरने से बिजली आपूर्ति भी प्रभावित हुई है। राज्य के पर्वतीय भागों में एक बार फिर शीतलहर का प्रकोप बढ़ गया है। मौसम विभाग द्वारा जारी किए गए पूर्वानुमान के अनुसार 20 मार्च तक राज्य में इसी तरह का मौसम रहने की संभावना जताई गई है। ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी व बारिश और मैदानी क्षेत्रों में बिजली की गड़गड़ाहट के साथ बारिश होने की आशा है। बेमौसम बारिश के कारण सबसे ज्यादा नुकसान किसानों की उन फसलों को हो रहा है जो तैयार खड़ी थी। उत्तराखंड ही नहीं यूपी और दिल्ली एनसीआर में भी मौसम में ऐसा ही बदलाव देखा जा रहा हैै।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here