व्यापारियों ने दिया विधायक श्ौला रानी को सुझाव:रात में नहीं चलनी चाहिए केदार धाम यात्रा

0
335

रूद्रप्रयाग। चार धाम यात्रा की शुरुआत से बिगड़े मौसम के कारण यात्रा में आ रही तरह तरह की दिक्कतों के मद्देनजर क्षेत्रीय व्यापारियों और स्थानीय लोगों ने विधायक श्ौला रानी रावत को सुझाव दिया है कि केदार यात्रा को रात में नहीं चलाया जाना चाहिए।
विधायक श्ौला रानी के साथ सोनप्रयाग, सीतापुर तथा रुद्रप्रयाग और गौरीकुंड व्यापार मंडल के पदाधिकारियों की बैठक हुई, जिसमें केदार धाम यात्रा की व्यवस्थाओं और मौसम के कारण आने वाली दिक्कतों को लेकर चर्चा हुई। क्षेत्रीय व्यापारियों का कहना है कि बारिश और बर्फबारी के कारण यहां आने वाले श्रद्धालुओं को अनेक मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। केदारघाटी में बारिश और बर्फबारी के कारण भीषण सर्दी का प्रकोप है वही पैदल मार्ग भी बारिश व बर्फबारी के कारण सुरक्षित नहीं माना जा रहा है। अब तक यहां कई लोगों की जानें जा चुकी हैं तथा कई दुर्घटनाएं हो चुकी है। इन व्यापारियों ने सुझाव दिया है कि रात के समय यात्रा का संचालन सुरक्षा की दृष्टिकोण से ठीक नहीं है इसलिए केदार धाम यात्रा को रात में रोक दिया जाना चाहिए।
यहां यह भी उल्लेखनीय है कि धाम के चारों ओर बर्फ ही बर्फ है भले ही श्रद्धालुओं में आस्था का जनून उन्हें किसी भी मुश्किल का सामना करने को तत्पर कर रहा हूं लेकिन यह अत्यंत ही जोखिम भरा है। अभी बीते कल एक श्रद्धालु रास्ता भटक कर सुमेरु पर्वत के पास चला गया जहां वह बर्फ में फंस गया। गनीमत रही कि उसने अपने ग्लेशियर में फंसे होने की सूचना समय पर केदारनाथ पुलिस को दे दी और एसडीआरएफ ने रेस्क्यू कर उसकी जान बचा ली। लेकिन एक बात साफ है कि केदार धाम जाने वाले यात्री अपनी जान हथेली पर रखकर ही यात्रा कर रहे हैं। खराब मौसम के कारण 31 मई तक रजिस्ट्रेशन पर तो रोक लगा ही दी गई इसके साथ ही अब तक कई बार यात्रा रोकनी भी पड़ी है।
खराब मौसम की मार सिर्फ केदार धाम यात्रा पर ही नहीं पड़ रही है। हेमकुंड साहिब यात्रा को शुरू होने के तुरंत बाद रोकना पड़ा है। अभी रास्ता खुला भी नहीं है कि मौसम फिर बिगड़ता दिख रहा है यही हाल बद्रीनाथ और यमुनोत्री और गंगोत्री धामों का भी है।


राज्य में फिर भारी बारिश व बर्फबारी होगी
देहरादून। मौसम विभाग द्वारा आज फिर अगले 24 घंटों में राज्य का मौसम खराब होने के कारण येलो अलर्ट जारी किया गया है। राज्य में इस दौरान देहरादून, हरिद्वार, उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग और चमोली जिलों में भारी बारिश और 3500 मीटर से अधिक ऊंचाई वाले स्थानों पर बर्फबारी की संभावना जताते हुए यात्रियों को सतर्कता बरतने को कहा गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here