ऑनलाईन स्कूटी खरीदने के चक्कर में गवांये साढे तीन लाख रूपये

0
521

देहरादून। ऑनलाईन स्कूटी खरीदने के चक्कर में अपने बैंक खातों की जानकारी देकर तीन लाख साठ हजार रूपये की ठगी के मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी।
प्राप्त जानकारी के अनुसार हरभजवाला मेंहूवाला निवासी मेहरबान सिंह ने साइबर थाने में प्रार्थना पत्र देते हुए बताया कि 20 अप्रैल 2022 को अपने फेसबुक में उपलब्ध मार्केटप्लेस में एक स्कूटी का विज्ञापन देखा गया था। स्कूटी का विज्ञापन देखकर उसकी स्कूटी खरीदने की इच्छा हुयी थी, तो उसने विज्ञापन पर क्लिक किया और उसे विज्ञापन पर मोबाईल नम्बर प्राप्त हुआ। उसके द्वारा मोबाईल नम्बर पर सम्पर्क कर स्कूटी के बारे में जानकारी ली गयी तो उसने अपना नाम शंशाक शर्मा बताते हुए कहा कि वह भारतीय सेना में है और ऋषिकेश का रहने वाला है और वर्तमान में हल्द्वानी में पोस्टेड है। उसको स्थानान्तरण पर किसी अन्य स्थान पर जाना है जिस कारण वह स्कूटी बेचना चाहता है। उसको विश्वास दिलाने के लिए मोबाईल नम्बर से उसको आर्मी का कैन्टीन स्मार्ट कार्ड व आधार कार्ड भी भेजा गया था। स्कूटी का सौदा 22 हजार रूपये में तय हो गया। जो उसकेे द्वारा 20 अप्रैल को ही अपने गूगल—पे के माध्यम से गूगल—पे नम्बर पर जमा कर दिये थे। 21 अप्रैल को उसके मोबाईल नम्बर से कॉल आया जिसने स्वयं को कूरियर सर्विस का डिलिवरी बॉय बतातें हुए कहा कि वह उसकी स्कूटी लेकर आ रहा है, परन्तु इसके इन्श्योरेन्स ना होने के कारण समय लग रहा है, और उससे स्कूटी के इन्श्योरेन्स के नाम पर 16 हजार 120 रूपये एक अन्य नम्बर पर जमा करवा दिये थे इसके बाद उसी नम्बर से पुनः कॉल आया कि आपसे गलती हो गयी है,16 हजार 120 रूपये अलग—अलग जमा करने थे अपने खाते से स्थानान्तरित गूगल—पे के माध्यम से स्थानान्तरित कर दिये थे। इतना पैसा जमा करने के उपरान्त स्कूटी स्वामी द्वारा उसके खाते में चैक डालने के नाम पर उसके बैंक खाते का विवरण प्राप्त कर उसके खाते से समय समय पर लगभग तीन लाख 60 हजार 393 रूपये निकाल लिये। जिसके बाद उसको पता चला कि उसके साथ साइबर ठगी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here