कर लो बाबा के दर्शन

0
357

खुल गए केदार धाम मंदिर के कपाट
श्रद्धालुओं का उमड़ा सैलाब
सीएम धामी ने की पहली पूजा

उत्तरकाशी। गाजे—बाजे और बम बम भोले के जयकारों के बीच आज केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट तय समय 6.25 बजे मंत्रोच्चारण और विधि विधान के साथ खोले गए। बाबा के दर्शनों के लिए श्रद्धालुओं का सैलाब तो केदारपुरी में उमड़ा ही था, श्रद्धालुओं में आस्था की दीवानगी और उत्साह भी देखते ही बनता था।
अपने शीतकालीन प्रवास स्थल उखीमठ के ओंकारेश्वर मंदिर से 2 मई को रवाना हुई केदार बाबा की पंचमुखी चल विग्रह डोली कल 5 मई को शाम केदारपूरी पहुंची थी। धाम के रावल भीमाशंकर लिंगम और पुजारियों की उपस्थिति में आज सुबह 6.25 बजे पूरे विधि विधान के साथ मंदिर के कपाट खोले गए और बाबा के दर्शनों के लिए श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ पड़ा। हर तरफ नाचते झूमते भक्त जन और बम बम भोले के जयकारों से केदारपुुरी गुंजायमान हो गई।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और उनकी पत्नी गीता धामी भी इस अवसर पर मौजूद रही। मुख्यमंत्री धामी ने कपाट खुलने के बाद पहली पूजा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से की। धामी का कहना है कि देश और समाज के कल्याण की कामना से उन्होंने पूजा अर्चना की है। बाबा केदार की हम सभी पर कृपा बनी रहे तथा धाम आने वाले हर श्रद्धालु की यात्रा सरल, सुगम और सुरक्षित हो बाबा सब पर अपनी कृपा बनाए रखें, बस यही कामना करता हूं। उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं में बाबा के दर्शनों को लेकर भारी उत्साह है। सरकार ने सभी व्यवस्थाएं की है जिससे श्रद्धालुओं को कोई परेशानी न हो।
आज कपाट खुलने के समय 10 हजार से अधिक संख्या में श्रद्धालु धाम में पहुंचे थे। मंदिर की भव्य पुष्प सज्जा की गई थी। इस दौरान श्रद्धालुओं में आस्था के अनूठे रंग देखे गए, कोई नाच रहा था तो कोई डमरु बजा रहा था, कोई बम बम भोले के नारे लगा रहा था तो कोई शिव वेश धारण कर आकर्षण का केंद्र बना हुआ था। बीती रात हालांकि आसमान पर बादल छाए हुए थे और केदारपुरी में कड़ाके की सर्दी थी लेकिन आस्था खराब मौसम पर भारी पड़ती दिखी। बाबा के दर्शनों के लिए रात से श्रद्धालुओं की लंबी—लंबी कतारें लग चुकी थी। सुमेरू पर्वत जो बर्फ से ढके हुए हैं सूरज की किरणों के साथ ही सोने की तरह चमकने लगे। केदारपुरी के भव्य प्राकृतिक सौंदर्य को देख श्रद्धालु भाव विभोर दिखे।


बाबा केदार अब 6 माह भक्तों को दर्शनोें के लिए यही विराजेंगे। बाबा का श्रृंगार और आरती शनिवार (कल) भ्ौरव बाबा मंदिर के कपाट खुलने व उनके श्रृंगार आरती के बाद ही होगा। 2 साल कोरोना के कारण प्रभावित रही चार धाम यात्रा को लेकर इस साल श्रद्धालुओं में भारी उत्साह देखा जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here