गुलाम नबी आजाद ने अपनी पार्टी से तीन नेताओं को निकाला

0
171

जम्मू। कुछ महीनों पहले कांग्रेस से अलग होकर अपनी नई पार्टी बनाने वाले गुलाम नबी आजाद ने डेमोक्रेटिक आजाद पार्टी से तीन नेताओं को निकाल दिया है। आजाद ने जिन नेताओं को पार्टी से निष्कासित किया है उनमें ताराचंद, डॉ. मनोहर लाल शर्मा और बलवान सिंह शामिल हैं. इनमें से ताराचंद जम्मू-कश्मीर के पूर्व उपमुख्यमंत्री रहे हैं और डॉ. मनोहर लाल शर्मा सरकार में मंत्री रह चुके हैं।
अभी कुछ दिनों पहले ही गुलाम नबी आजाद ने अपनी पार्टी का विस्तार भी किया था। इसमें से ताराचंद को पार्टी का उपाध्यक्ष नियुक्त किया था। आजाद ने पार्टी का विस्तार करते हुए तीन पूर्व मंत्रियों ताराचंद, पीरजादा मोहम्मद सईद और जीएम सरूरी को पार्टी का उपाध्यक्ष नियुक्त किया था। बीते शनिवार को जानकारी सामने आई थी कि सलमान निजामी को डीएपी के मुख्य प्रवक्ता की जिम्मेदारी दी गई। तो वहीं जुगल किशोर शर्मा और मोहम्मद अमीन भट को जम्मू और कश्मीर क्षेत्रों का प्रांतीय अध्यक्ष नियुक्त किया था।
पार्टी ने 10 नए महासचिवों, 12 सचिवों, छह प्रवक्ताओं, मीडिया समन्वयकों-सह-अतिरिक्त प्रवक्ताओं और चार सोशल मीडिया समन्वयकों के नामों की भी घोषणा की। इस साल 26 अगस्त को कांग्रेस छोड़ने वाले 73 वर्षीय आजाद ने 26 सितंबर को जम्मू में दर्जनों पूर्व मंत्रियों, पूर्व विधायकों और अन्य प्रमुख नेताओं के समर्थन से डेमोक्रेटिक आजाद पार्टी की शुरुआत की थी।
नाम की घोषणा करते हुए उन्होंने कहा था कि आजाद का अर्थ मेरे नाम से नहीं है। इसका अर्थ है कि हमारी अपनी सोच होगी और किसी से प्रभावित नहीं होगी और ये पार्टी आजाद रहेगी. पार्टी ऑटोक्रेटिक नहीं, बल्कि डेमोक्रेटिक होगी. मेरी पार्टी में आने वाले लोग ऐसे होंगे जो दूसरों के लिए प्रेरणा बन सकें। राजनीति में सेवा के भाव से आने वालों लोग होंगे, पैसे बनाने के लिए आने वाले नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here