टाइगर की खाल व हड्डियों सहित चार वन्यजीव तस्कर गिरफ्तार

0
367


देहरादून। राज्य के जंगलों से हो रही वन्य जीव तस्करी का भंडाफोड़ करते हुए एसटीएफ द्वारा चार शातिर वन्यजीव तस्करों को गिरफ्तार किया गया है। जिनके कब्जे से एक 11 फिट टाइगर (बाघ) की खाल, 15 किलो हड्डिया व तस्करी में प्रयुक्त बुलेरो भी बरामद की गयी है। बताया जा रहा है कि आरोपियों का नेटवर्क उत्तराखण्ड से दिल्ली तक फैला है जिस पर आगे की कार्यवाही की जा रही है।


वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ आयुष अग्रवाल द्वारा जानकारी देते हुए बताया कि पिछले कई दिनों से कुमायूँ के जंगलों से वन्यजीव—जन्तुओं के अवैध शिकार की सूचनाएँ प्राप्त हो रही थी जिस पर कार्यवाही करते हुए एसटीएफ द्वारा वाइल्ड लाइफ क्राइम कंट्रोल ब्यूरो दिल्ली व तराई पूर्वी वन प्रभाग हल्द्वानी एसओजी की संयुक्त टीम द्वारा कल देर रात खटीमा क्षेत्र में कार्यवाही करते हुए 4 शातिर वन्यजीव तस्करों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से एक 11 फिट लम्बी टाइगर(बाघ) की खाल व करीब 15 किग्रा बाघ की हड्डी बरामद की है। गिरफ्तार चारों तस्कर जनपद पिथौरागढ़ स्थित धारचूला के रहने वाले हैं और लम्बे समय से वन्यजीव अंगो की तस्करी में लिप्त थे। बताया कि कल देर शाम एसटीएफ को गोपनीय सूचना मिली थी कि चार शातिर तस्कर एक सफेद रंग की बोलेरो जीप से खटीमा की तरफ आ रहे हैं जिस पर संयुक्त टीम द्वारा घेराबन्दी कर उन्हें खटीमा टॉल प्लाजा के पास रोक लिया गया। तलाशी लेने पर वाहन के अन्दर से टाइगर की खाल व भारी मात्रा में हड्डियाँ बरामद हयी। गिरफ्तार तस्करों ने पूछताछ में बताया कि उक्त टाइगर की खाल व हड्डी को वे काशीपुर निवासी एक व्यक्ति से लाये थे और जिसे आज बेचने के लिए खटीमा ले जा रहे थे। बताया जा रहा है कि यह ये अब तक की सबसे बड़ी टाइगर स्किन है जिसकी लम्बाई करीब 11 फिट है, इतने बड़े टाइगर का शिकार कहाँ और कब किया गया इसकी पूरी जानकारी एसटीएफ द्वारा जुटायी जा रही है। गिरफ्तार वन्य जीव तस्करों के नाम कृष्ण कुमार पुत्र वीर राम, गजेंद्र सिंह पुत्र भगत सिंह, संजय कुमार पुत्र नंदन राम व हरीश कुमार पुत्र शेर राम निवासी पिथौरागढ़ बताये जा रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here