दून की खस्ताहाल सड़कें

0
112

क्या आपने राजधानी दून की सड़कों की ऐसी दुर्दशा कभी देखी है जैसी आजकल है। खास बात यह है कि इन सड़कों के हालात सुधारने के लिए अब तक जितने भी प्रयास किए गए हैं वह सब बेनतीजा ही रहे हैं। अभी बीते दिनों दून की सड़कों की खस्ताहाली में कोई सुधार न ला पाने के कारण जिलाधिकारी को बदल दिया गया था नई जिलाधिकारी सोनिका ने जब अपना पदभार संभाला तो उन्होंने सबसे पहले अधिकारियों को इन सड़कों की मरम्मत और गड्ढा मुक्त करने के लिए 1 सप्ताह का समय दिया गया लेकिन फिर भी इसमें कोई सुधार होता नहीं दिखा। इन सड़कों की खस्ता हाली के लिए स्मार्ट सिटी के कामों के सिर ठीकरा फोड़ा जाता रहा। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इस मामले का जब संज्ञान लिया तो उन्होंने स्मार्ट सिटी के काम करने वाली कार्यदायी संस्थाओं को भी हटा दिया, इनसे काम छीन कर अब इसका काम पीडब्ल्यूडी और दूसरी संस्थाओं को सौंप दिया गया है। जिलाधिकारी ने पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों से भी कहा है की सड़कों को जितना जल्दी हो सके गड्ढा मुक्त करने का काम किया जाए। पीडब्ल्यूडी के कर्मचारियों द्वारा बीते 1 सप्ताह में बहुत सारी सड़कों पर गड्ढों को टाइल्स से भर के ठीक करने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन अब तक इन सड़कों पर जो भराव या मरम्मत का काम किया गया है उससे सड़कें और भी अधिक उबड़—खाबड़ होती जा रही हैं। बीते 1 माह से हो रही झमाझम बारिश के कारण काम तो प्रभावित हो ही रहा है इसके साथ ही स्मार्ट सिटी के कामों के लिए जिन सड़कों पर खुदाई का काम किया गया था वह जगह—जगह से धस रही हैं। इनमें कई जगह इतने गहरे गड्ढे हो रहे हैं कि अगर लापरवाही में कोई वाहन इसमें चला जाए तो बड़ी दुर्घटना हो सकती है। बीते कल अब राज्य के मुख्य सचिव द्वारा लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा गया है कि वह यह बताएं कि किस क्षेत्र की सड़कों को वह कब तक गड्ढा मुक्त करा पाएंगे। इसमें कोई संदेह नहीं है कि जब तक मानसूनी बारिश का दौर जारी है तब तक इन सड़कों के पुनर्निर्माण का काम नहीं किया जा सकता है सिर्फ पेचवर्क करके ही इन सड़कों को आवागमन के लायक बना कर रखा जा सकता है। मौसम विभाग के अनुसार 30 सितंबर तक बारिश का यह क्रम जारी रहेगा ही। सही मायने में इसको स्थाई समाधान भी नहीं कहा जा सकता है। राजधानी दून की एक नहीं सभी सड़कों के पुनर्निर्माण की जरूरत है देखना यह है कि इनका पुनर्निर्माण कब शुरू हो पाएगा और कब खत्म हो सकेगा। हां यह जरूर है कि इन दिनों राजधानी दून की सड़कों की बदहाली के कारण राजधानी दून और राज्य की छवि दोनों ही खराब हो रही है बाहरी राज्यों और विदेशों से आने वाले लोगों द्वारा यही कहा जा रहा है कि क्या यही है वह देहरादून और मसूरी जिसके बारे में सुंदरता और स्वच्छता के कसीदे पढ़े जाते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here