कांग्रेस सांसद धीरज साहू के ठिकानों पर अब तक मिले कुल 351 करोड़

0
286
  • 40 मशीनें 5 दिन से कर रहीं नोटों की गिनती
  • 176 बैग में मिले नोट की गड्डियों की गिनती जारी

भुवनेश्वर। कांग्रेस के राज्यसभा सांसद धीरज साहू के ठिकानों से मिले भारी भरकम कैश का अब भी गिनना जारी है। जब्त की गई रकम का आंकड़ा 300 करोड़ से भी पार जा चुका है। ऐसे में यह कयास लगाए जा रहे हैं कि आंकड़ा 500 करोड़ तक भी पहुंच सकता है। अधिकारियों की मानें तो यह भारत में अब तक की एक ही ऑपरेशन में जब्त किया गया सबसे बड़ा काल धन है। आयकर विभाग की टीम ने बताया कि 176 बैग नोटों से भरे हुए हैं। यह उन्होंने बौध डिस्टिलरीज से बरामद किए हैं। इन 176 बैगों में से 140 बैगों की गिनती की जा चुकी है। बचे 26 बैगों की गिनती की जा रही है। इन नोटों की गिनने के लिए अतिरिक्त मशीनें और कर्मचारी लगाए गए हैं, जिससे यह काम तेजी से किया जा सके। 40 मशीनों के जरिए कैश की गिनती की गई है। मशीनों में आने वाली किसी भी तकनीकी समस्या से निपटने के लिए इंजीनियर भी साइट पर मौजूद रहे। साहू ग्रुप पर टैक्स चोरी का आरोप है। इसी सिलसिले में 6 दिसंबर को छापेमार कार्रवाई शुरू हुई थी। अधिकारियों ने कुल 176 बैग में नकदी को रखा था। इन बैग में रखे कैश की गिनती शुरू की गई। रविवार देर शाम भारतीय स्टेट बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक भगत बेहरा ने बताया कि उन्हें गिनती के लिए 176 बैग में नकदी मिली थी। कैश की गिनती के काम में आयकर विभाग और विभिन्न बैंकों की लगभग 80 अधिकारियों की 9 टीमें जुटी थीं। इन्होंने 24 घंटे की शिफ्ट में काम किया। सुरक्षा कर्मियों, ड्राइवरों और अन्य कर्मचारियों समेत 200 अधिकारियों की एक और टीम तब शामिल हुई जब कर अधिकारियों को कुछ अन्य स्थानों के अलावा नकदी से भरी 10 अलमारियाँ मिलीं।


बताते चलें कि कथित तौर पर धीरज साहू का परिवार एक प्रमुख शराब निर्माण कारोबार में शामिल है और वो ओडिशा में ऐसी कई फैक्ट्रियों का मालिक है। इस बीच, भारी मात्रा में कैश बरामद होने के बाद कांग्रेस ने धीरज साहू से दूरी बना ली है। पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने कहा, सांसद धीरज साहू के बिजनेस से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का कोई लेना-देना नहीं है। सिर्फ वही बता सकते हैं और उन्हें यह स्पष्ट करना भी चाहिए कि कैसे आयकर अधिकारियों द्वारा कथित तौर पर उनके ठिकानों से इतनी बड़ी मात्रा में कैश बरामद किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here