विभिन्न संगठनों ने सुशीला बलूनी को पुष्पांजलि अर्पित कर दी श्रद्धांजलि

0
127

देहरादून। वरिष्ठ आंदोलनकारी व महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष सुशीला बलूनी का पार्थिव शरीर जैसे ही शहीद स्मारक पहुंचा वहां पर लोगों का तांता लग गया। वहां पर विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने पहुंच उनको पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।
आज यहां जैसे ही वरिष्ठ आंदोलनकारी व महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष सुशीला बलूनी का पार्थिव शरीर शहीद स्मारक पहुंचा वहां पर लोगों का हजूम एकत्रित हो गया। सभी उनको श्रद्धांजलि देने के लिए वहां पर पहुंचे। विभिन्न संगठनों ने शहीद स्मारक पर महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष सुशीला बलूनी के पार्थिव शरीर पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने भी अपने श्रद्धासुमन अर्पित किये। इनमें अखिल भारतीय समानता मंच के विनोद नौटियाल, बैंक इंप्लाइज एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष जगमोहन मेहंदीरत्ता, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी उत्तराधिकारी कल्याण समिति के मुकेश शर्मा, सिख वेलफेयर सोसाइटी के जीएस जस्सल, संयुक्त नागरिक संगठन के सुशील त्यागी, गवर्नमेंट पेंशनर्स संगठन के चौधरी ओमवीर सिंह, क्षत्रिय चेतना मंच के महासचिव रवि सिंह नेगी आदि शामिल थे।
उत्तराखण्ड आंदोलनकारी संयुक्त परिषद ने शहीद स्मारक में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन कर वहां पर वरिष्ठ आंदोलनकारी सुशीला बलूनी को श्रद्धांजलि दी गयी। आज यहां उत्तराखंड आंदोलनकारी संयुक्त परिषद के कार्यकर्ताओं ने एक श्रद्धांजलि सभा प्रातः साढे ग्यारह बजे शहीद स्मारक कचहरी परिसर में की गई। जिसमें राज्य आंदोलनकारियों की अग्रणी रही श्रीमती सुशीला बलूनी के निधन पर गहरा शोक प्रकट किया गया स्मरण रहे कि राज्य प्राप्ति आंदोलन में श्रीमती सुशीला बलूनी ने सबसे पहले भूख हड़ताल पर बैठकर बढ़—चढ़कर अपनी भागीदारी निभाई व अन्य महिलाओं को एकत्रित कर आंदोलन को मजबूती प्रदान की। जिससे उनके योगदान को प्रदेश की जनता कभी नहीं भुला सकती वे सदैव राज्य आंदोलनकारियों के हितों की सोचती थी अब हम आंदोलनकारियों को भी मार्गदर्शन के लिए भटकना पड़ेगा। ऐसा हम आंदोलनकारियों को महसूस हो रहा है।
श्रद्धांजलि देने वालों में उत्तराखंड आंदोलनकारी संयुक्त परिषद के संरक्षक नवनीत गुसाईं व जिला अध्यक्ष सुरेश कुमार, व विपुल नौटियाल, प्रभात डंडरियाल, धर्मानंद भट,ृ वालेस बवानिया, रामपाल, प्रमिला रावत, प्रभा नैथानी, सत्या डोबरियाल, रेखा शर्मा, अनुराग भटृ आदि उपस्थित रहे।
वही दूसरी ओर नेताजी संघर्ष समिति ने वरिष्ठ आंदोलनकारी श्रीमती सुशीला बलूनी की मृत्यु पर गहरा शोक प्रकट किया। नेताजी संघर्ष समिति के कार्यकर्ता व राज्य आंदोलनकारी प्रभात डंडरियाल और आरिफ वारसी ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए वरिष्ठ राज्य आंदोलनकारी श्रीमती सुशीला बलोनी के निधन पर गहरा शोक प्रकट किया है। वारसी व डंडरियाल ने कहा कि बलोनी जी ने राज्य प्राप्त आंदोलन में अग्रणी भूमिका निभाई थी उनकी भूमिका को नकारा नहीं जा सकता वह राज्य के आंदोलन के प्रति सजग रहती थी समिति ने दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की।

विधायक किशोर उपाध्याय ने सुशीला बलूनी की मृत्यु पर शोक जताया

टिहरी। विधायक किशोर उपाध्याय ने कहा कि अदम्य साहस और उत्तराखंड राज्य आंदोलन की त्वरा की धुरी हम सबकी गौरव, मार्ग दर्शक सुशीला बलूनी के निधन के समाचार से मैं स्तब्ध हूँ।


उन्होंने कहा राज्य आंदोलन में और उसके उपरान्त संघर्ष की जिजीविषा का एक सूर्य अस्त हो गया, लेकिन उनकी पुण्य आत्मा राज्य आंदोलन की भावना की रक्षा के लिये प्रकाश स्तम्भ की मानिंद हमारा मार्ग दर्शन करती रहेगी। उत्तराखंड की वरिष्ठ राज्य आंदोलनकारी व राज्य महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष सुशीला बलूनी के निधन की खबर अत्यंत ही दुःखद है। ईश्वर उनकी दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें एवं परिजनों को इस दुख को सहने की शक्ति दे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here