चौथे दिन भी धरने पर डटे रहे युवा बेरोजगार

0
347

देहरादून। अपनी मांगों को लेकर शहीद स्थल व कचहरी के बाहर बेरोजगार युवा चौथे दिन भी धरने पर डटे रहे इस दौरान पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों ने उनको काफी समझाने का प्रयास किया।
बेरोजगार संघ के बैनर तले 10 फरवरी को हजारों की संख्या में बेरोजगार युवा गांधी पार्क में एकत्रित हुए जहां पर उन्होंने धरना दिया जिसके बाद वह घंटाघर चौक पर पहुंचे और रास्ता जाम कर दिया। इस दौरान धरना दे रहे युवकों का वहां से गुजरने वाले वाहन चालकों से भी तीखी नोंक झोक हुई। इसी दौरान पुलिस ने उनको तितर बितर करने के लिए लाठी चार्ज कर दिया। जिसके बाद युवको ने भी पत्थराव कर दिया। जिसके बाद वहां पर माहौल गरमा गया कई पुलिस कर्मी भी घायल हुए। जिसके बाद पुलिस ने बेरोजगार संघ के अध्यक्ष बॉबी सहित 13 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। पुलिस गांधी पार्क व उसके आसपास भीड जमा ना हो इसका इंतेजाम करती रही और बेेरोजगार युवा पुलिस को चकमा देकर कचहरी परिसर स्थित शहीद स्थल पर पहुंच गये और उन्हाेंने वहां पर धरना शुरू कर दिया। इस दौरान बार एसोसिएशन के अध्यक्ष मनमोहन कंडवाल व सचिव भी उनके बीच पहुंचे और उन्होंने बेरोजगार युवकों को अपना समर्थन दे दिया। जिसके बाद अपने साथियों की रिहाई की मांग करते हुए धरना शुरू कर दिया। इस दौरान पुलिस ने इनको वहां से हटाने का काफी प्रयास किया लेकिन कामयाब नहीं हो सके। इसी दौरान काफी संख्या में युवा डीजे कोर्ट के बाहर गेट पर धरने पर बैठ गये। जिसके बाद युवकों का धरना दो जगह पर शुरू हो गया। गत दिवस पुलिस ने कचहरी परिसर में भीड जमा ना हो सके इसके लिए कचहरी परिसर को सील कर दिया। इस दौरान पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों ने धरने पर बैठे युवकों को काफी समझाने व आईपीसी की धाराओं का हवाला देकर डराने का भी प्रयास किया लेकिन वह अपनी मांग पर अडे रहे और धरने पर बैठ गये। वहीं शनिवार को जेल में बंद छह लोगों की न्यायालय से जमानत मिल गयी थी लेकिन वह अन्यों की जमानत तक जेल से बाहर आने से इंकार कर दिया। आज धरने के चौथे दिन भी युवा धरने पर डटे रहे। इस दौरान सबकी निगाहें अपने अन्य साथियों की जमानत के आदेश आने पर लगी हुई थी। धरने पर युवाओं को समर्थन देने के लिए उत्तराखण्ड व्रQांति दल के पदाधिकारी व अधिवक्ता जमे रहे तथा युवाओं के साथ पुलिस व प्रशासन के द्वारा कोई जबरदस्ती कार्यवाही ना हो इसपर भी सभी ने ध्यान रखा हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here