धर्मांतरण को लेकर शासन सख्त

0
251

कभी भी हो सकती है आरोपियों की गिरफ्तारी

स्थानीय लोगों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर गुस्सा
पुलिस को मिले धर्मांतरण कराने के कई सबूत

पुरोला/देहरादून। उत्तरकाशी के पुरोला तहसील के गांव छिवाला और डोईवाला के लाल तप्पड़ में प्रकाश में आए धर्मांतरण की घटनाओं को लेकर शासन ने सख्त रुख अपनाते हुए आरोपियों के खिलाफ सख्त कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश अधिकारियों को दे दिए हैं। जिसके बाद प्रशासन द्वारा कार्यवाही तेज कर दी गई है।
उल्लेखनीय है कि पुलिस को पुरोला की घटना के बारे में पुख्ता सबूत मिले हैं। पुलिस ने इस मामले में कई लोगों से पूछताछ की है उसे कुछ ऐसे गवाह भी मिले हैं जिन्होंने इस बात की पुष्टि की है कि उन्हें कई तरह के लालच देकर 23 दिसंबर को होने वाले इस कार्यक्रम में बुलाया गया था। अब पुलिस इन गवाहों के मजिस्ट्रेटी बयान दर्ज करा रही है। वही इस कार्यक्रम में मसूरी के एक चर्च के पादरी का नाम सामने आने की पुष्टि हो चुकी है माना जा रहा है कि उक्त पादरी और उसकी पत्नी एवं छिवाला में आशा जीवन केंद्र के संचालकों की शीघ्र गिरफ्तारियां हो सकती है।
इस मामले को लेकर पुरोला क्षेत्र में भारी तनाव की स्थिति बनी हुई है। स्थानीय लोगों और व्यापारियों द्वारा इस घटना को लेकर बीते तीन—चार दिनों से भारी आक्रोश बना हुआ है तथा वह लगातार आरोपियों की गिरफ्तारी और उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। स्थानीय लोगों में पुलिस प्रशासन की कार्यप्रणाली को लेकर भी भारी आक्रोश है उनका आरोप है कि स्थानीय लोगों द्वारा जिस गलत काम का विरोध किया गया पुलिस द्वारा उल्टा उन्हीं के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। उल्लेखनीय है कि इस मामले में पुलिस द्वारा क्रास रिपोर्ट दर्ज की गई है तथा घटना के विरोध में आंदोलन करने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किए जाने से भारी आक्रोश है। कल भी इस घटना के विरोध में बाजार बंद रखा गया था अभी तनाव को देखते हुए पुरोला में भारी पुलिस बल तैनात है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here