सूबे के भाजपा विधायकों की धड़कनें बढ़ी

0
173

12 से 15 विधायकों के टिकट कटने का अंदेशा

देहरादून। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए आज जारी की गई 107 प्रत्याशियों की सूची जारी होने के बाद उत्तराखंड के भाजपा विधायकों की भी धड़कने बढ़ने लगी है। इन विधायकों को अब अपने टिकट कटने का भय सताने लगा है।
भाजपा ने अपनी इस सूची में 83 में से 20 सिटिंग विधायकों को टिकट नहीं दिया है। उत्तराखंड में भाजपा के 57 विधायक जीत कर 2017 में विधानसभा पहुंचे थे। अगर इनमें से 20 से 25 फीसदी सिटिंग विधायकों के टिकट काटे जाते हैं तो 12 से 15 विधायकों को टिकट से महरूम होना पड़ सकता है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि भाजपा ने अपने सभी विधायकों की परफारमेंस का आकलन कराया गया है। भाजपा के दर्जनभर विधायकों के परफारमेंस रिपोर्ट नेगेटिव बताई जा रही है तथा उनकी लोकप्रियता के ग्राफ में भी गिरावट आने की चर्चा है।
कई विधानसभा क्षेत्र ऐसे हैं जहां भाजपा विधायकों ने बहुत कम अंतर से जीत दर्ज की थी तथा इन विधायकों का लगातार दूसरी बार जीतना संदिग्ध माना जा रहा है। ऐसी स्थिति में पार्टी इन विधायकों को दोबारा टिकट देने के पक्ष में नहीं है। यही नहीं विधायकों के निधन से जो सीटें खाली हुई है उन सीटों के अलावा 2 दर्जन से अधिक सीटें ऐसी हैं जिन पर सिटिंग विधायकों से अपनी ही पार्टी के नेता और कार्यकर्ता संतुष्ट नहीं है। इन सभी सीटों पर सिटिंग विधायकों को चुनौती मिल रही है। आज राजधानी में भाजपा कोर ग्रुप की बैठक हो रही है तथा आज ही प्रदेश चुनाव समिति की बैठक में प्रत्याशियों के नामों पर मंथन हो रहा है। यह देखना दिलचस्प होगा कि उत्तराखंड के कितने विधायकों को पत्ता साफ होता है और इसका चुनाव पर क्या प्रभाव पड़ता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here