आशा पारेख को 2020 के दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा

0
173

नई दिल्ली। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि दिग्गज अभिनेत्री आशा पारेख को 2020 के दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा, जो इंडियन सिनेमा की फील्ड में सर्वोच्च सम्मान है। पिछले ही साल 2019 का दादा साहेब फाल्के अवार्ड रजनीकांत को प्रदान किया गया था। 79 वर्षीय अभिनेत्री आशा पारेख, जिन्हें फिल्म दिल दे के देखो, कटी पतंग, तीसरी मंजिल और कारवां जैसी फिल्मों में अपनी आउटस्टैंडिंग परफॉर्मेंस के लिए जाना जाता है। उन्हें हिंदी सिनेमा में अब तक की सबसे इंफल्यूएंशल एक्ट्रेसेज में से एक माना जाता है। आशा, डायरेक्टर और प्रोडूसर भी हैं, जिसके चलते उन्होंने 1990 के दशक के अंत में कोरा कागज नाम के टीवी शो को डायरेक्ट किया था।
दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड सबसे पहले बार 1969 में फर्स्ट लेडी ऑफ इंडियन सिनेमा कही जाने वाली देविका रानी को दिया गया था। इसके बाद से हर साल किसी ऐसे शख्स को ये अवॉर्ड दिया जाता है जिन्होंने सिनेजगत में खास योगदान दिया है। इसके बाद सिने जगत में साल 1971 में पृथ्वी राज कपूर को इस अवॉर्ड से सम्मानित किया गया।
इस अवॉर्ड को पाने वालों में म्यूजिक डायरेक्टर नौशाद (1981), दुर्गा खोटे (1983), सत्यजीत रे (1984), वी शांताराम (1985), राज कपूर (1987), अशोक कुमार (1988) , लता मंगेशकर (1989), मजरूह सुल्तानपुरी (1993), दिलीप कुमार (1994) , बी आर चोपड़ा (1998), ऋषिकेश मुखर्जी (1999) , आशा भोसले (2000), यश चोपड़ा (2001), देव आनंद (2002), श्याम बेनेगल (2005), मन्ना डे (2007), प्राण (2012), गुलजार (2013), शशि कपूर (2014), मनोज कुमार (2015), विनोद खन्ना (2017), अमिताभ बच्चन (2018), रजनीकांत (2019) और अब ये सम्मान आशा पारेख (2022) को दिया जा रहा है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here