आखिर प्रत्याशियों की सूचियों में विलंब क्यों?

0
185

भाजपा 27 जनवरी को जारी करेगी सूची

नई दिल्ली/देहरादून। नामांकन प्रक्रिया को शुरू हुए 3 दिन बीत चुके हैं। 28 जनवरी को नामांकन पत्र भरने की अंतिम तिथि है, लेकिन भाजपा और कांग्रेस उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के लिए अभी तक पूरे प्रत्याशियों की सूची जारी नहीं कर सकी है। भाजपा की 11 और कांग्रेस की 17 सीटों पर प्रत्याशी तय किए जाने बाकी है। इन नामों की आज घोषणा हो सकेगी इसकी संभावनाएं अभी दिखाई नहीं दे रही है, जो इस बात का साफ संकेत है कि भाजपा और कांग्रेस में प्रत्याशियों के चयन को लेकर सिर्फ पेंच ही नहीं फसा है बल्कि सब कुछ ठीक—ठाक नहीं चल रहा है।
आज सुबह से ही इस बात की चर्चा की कि भाजपा अपने शेष बचे 11 प्रत्याशियों की सूची जारी कर देगी लेकिन भाजपा प्रदेश मुख्यालय में आज हुई कोर ग्रुप की बैठक जिसमें प्रदेश प्रभारी प्रह्लाद जोशी और सीएम धामी भी मौजूद थे, के बाद आज सूची जारी होने से मना कर दिया गया। प्रह्लाद जोशी ने बैठक के बाद बताया कि भाजपा की दूसरी सूची अब 27 जनवरी को आएगी यानी कि नामांकन पत्र भरने की अंतिम तारीख से एक दिन पहले। हालांकि उन्होंने इसका कारण पूछे जाने पर कहा कि सूची को राजनीतिक रणनीति के कारण से रोका गया है। लेकिन उनकी इस बात पर भरोसा नहीं किया जा सकता है। भाजपा ने जिन 11 सीटों पर नाम तय नहीं किए हैं उनमें से कई सीटों पर गंभीर मतभेद बने हुए हैं कुछ सीटें ऐसी हैं जिन पर टिकट किसी को भी दिया जाए लेकिन बगावत तय मानी जा रही है। भाजपा अपनी पहली सूची जारी होने के बाद से जिस तरह का विरोध और बगावत झेल रही है वह अच्छे चुनावी संकेत नहीं है इसलिए वह शेष बची सीटों को लेकर ऐसी स्थिति नहीं चाहती है। डोईवाला सीट की बात हो जिस पर चुनाव लड़ने से सीटिंग विधायक व पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह मना कर चुके हैं या फिर झबरेड़ा सीट जिस पर कर्णवाल अपनी पत्नी के लिए टिकट मांग रहे हैं, टिहरी सीट हो जहां से कई दावेदार हैं। हर सीट पर कोई न कोई पेंच फंसा हुआ है। जिन सीटों पर भाजपा और कांग्रेस दोनों में से किसी ने अपना कोई प्रत्याशी घोषित नहीं किया है उन सीटों पर भी कशमकश की स्थिति है। जैसे टिहरी उनमें से एक सीट है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here