भर्ती घोटालों पर कांग्रेस के तेवर तल्ख

0
58

मौन उपवास व सड़कों पर प्रदर्शन

हरीश रावत व यशपाल ने किया मौन उपवास
सरकार से तत्काल प्रभावी कदम उठाने की मांग

देहरादून/हल्द्वानी/हरिद्वार। भर्ती घोटालों को लेकर कांग्रेस नेताओं ने आज मौन उपवास और प्रदर्शन कर अपना विरोध दर्ज कराया। कांग्रेसी नेताओं की मांग है कि वह राज्य में होने वाली भर्तियों में पारदर्शिता सुनिश्चित करें।
सरकारी नौकरियों के लिए होने वाली भर्तियों में एक के बाद एक बड़े घोटालों के खुलासे हो रहे हैं। भर्ती के लिए अधिकृत किए गए आयोगों से युवाओं का विश्वास उठ चुका है। यूकेएसएसएससी के बाद अब उत्तराखंड लोक सेवा आयोग की भर्तियों में व्यापक स्तर पर हुई धांधली के मामले सामने आने से राज्य में नकल विहीन पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया एक बड़ा सवाल बनकर रह गई है। भर्तियों में धांधली के इस मुद्दे को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के नेतृत्व में आज सैकड़ों कांग्रेसी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने मौन उपवास किया। कांग्रेसी नेताओं का कहना है कि भाजपा सरकार भर्तियोंं के घोटाले रोकने की अपनी जिम्मेवारी से यह कहकर पल्ला नहीं झाड़ सकती है कि यह भर्तियां इसके या उसके कार्यकाल में हुई थी। जिन तमाम भर्तियों में धांधली हुई उन पर वैधानिक कार्यवाही के साथ—साथ सरकार की जिम्मेदारी है कि वह अब एक ऐसा सिस्टम तैयार करें जो फुलप्रूफ हो। हरीश रावत के साथ मौन व्रत पर बैठे पूर्व प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल का कहना है कि आज प्रदेश के युवा अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहे हैं और उनका कैरियर और जीवन तबाह हो रहा है।
उधर आज हल्द्वानी में नेता विपक्ष यशपाल आर्य और कांग्रेस नेता सुमित हृदयेश के नेतृत्व में हल्द्वानी में भी सैकड़ों कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने मौन उपवास कर सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया। उनका कहना है कि पिछले 6 साल से भाजपा सत्ता में है इन धांधलियों को कैसे रोका जाए यह उसकी जिम्मेवारी है। लेखपाल—पटवारी परीक्षा के लिए तो भाजपा की सरकार ने ही लोक सेवा आयोग से परीक्षा कराई थी जिसका पेपर लीक हुआ है क्या इसके लिए सरकार कांग्रेस को जिम्मेदार ठहरा सकती है। उन्होंने सरकार से युवाओं का भविष्य सुरक्षित व संरक्षित करने के लिए इस धांधली को रोकने के प्रभावी उपाय करने की मांग की है। इस दौरान बड़ी संख्या में प्रतियोगी परीक्षा देने वाले छात्र भी मौजूद रहे उधर हरिद्वार में भी कांग्रेसी नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा लोक सेवा आयोग के कार्यालय पर उग्र प्रदर्शन किया गया तथा सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here