अंकिता भण्डारी हत्याकाण्ड में पुलिस ने रिजार्ट स्वामी सहित तीन लोगो को किया गिरफ्तार

0
297

देर सांय तक चीला नहर में शव की तलाश में चलाया अभियान

देहरादून। अंकिता भण्डारी हत्याकाण्ड में पुलिस ने रिजार्ट मालिक सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया। जिन्होंने बताया कि उन्हाेंने युवती को चीला नहर में फेंक दिया था। देर सांय तक शव की तलाश में चीला नहर में रेस्क्यू अभियान चलाया।
पुलिस मुख्यालय से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम श्रीकोट पट्टी नादलस्यूं निवासी अंकिता भण्डारी लक्ष्मण झूला क्षेत्र के वनंतरा रिजार्ट में काम करती थी जोकि 18 सितम्बर से लापता हो गयी थी। जिसकी रिपोर्ट राजस्व पुलिस चौकी उदयपुर तल्ला में गुमशुदगी दर्ज की गयी थी। गत दिवस मामला लक्ष्मण झूला थाने में भेजा गया। एसएसपी पौडी यशवंत सिंह चौहान ने मामले के खुलासे के लिए अपर पुलिस अधीक्षक कोटद्वार के नेतृत्व में थाना लक्ष्मणझूला व थाना देवप्रयाग की टीम का गठन कर मामले का खुलासा करने के निर्देश दिये। पुलिस ने मामले की जांच करते हुए सीसीटीवी कैमरे व सर्विलास के माध्यम से जांच शुरू की। पुलिस ने जांच के दौरान रिजार्ट के कर्मचारियों से पूछताछ की तो पता चला कि 18 सितम्बर को अंकिता रिजार्ट मालिक पुलकित आर्य, मैनेजर सौरभ भास्कर व अंकित उर्फ पुलकित गुप्ता के साथ गयी थी लेकिन रात्रि में यह तीनों लोग वापस आ गये थे इनके साथ अंकिता नहीं आयी थी। कर्मचारियों ने पुलिस को बताया कि घटना वाले दिन अंकिता काफी परेशान थी। जिसके बाद पुलिस ने रिजार्ट मालिक पुलकित आर्य पुत्र डा0 विनोद आर्य निवासी आर्यनगर ज्वालापुर हरिद्वार, अंकित उर्फ पुलकित गुप्ता पुत्र राजेन्द्र कुमार गुप्ता निवासी दयानंद नगरी ज्वालापुर हरिद्वार व सौरभ भास्कर पुत्र शक्ति भास्कर निवासी सूरजगर ज्वालापुर को गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ की। पूछताछ में उन्होंने बताया कि घटना वाले दिन पुलकित व अंकिता रिजार्ट में थे तथा दोनों में किसी बात को लेकर विवाद हो गया था जिसके बाद वह उसको लेकर ऋषिकेश के लिए रिजार्ट से निकले थे। तीनों अलग—अलग वाहनों में नहर के किनारे पहुंचे जहां पर उन्होंने शराब पी थी। उन्होंने पुलिस को बताया कि जब वह शराब पी रहे थे उस समय भी पुलकित व अंकिता के बीच विवाद होने लगा कि अंकिता उनकी बातें अपने साथियों को बताती है तथा उनको बदनाम करती थी कि वह उसको कस्टमर के साथ सोने के लिए कहते हैं। जिसके बाद उनकी अंकिता से भिडंत हो गयी तब अंकिता ने उनको धमकी दी कि उनके रिजार्ट की सच्चाई लोगों को बता देगी। विवाद के दौरान अंकिता ने पुलकित का फोन नहर में फेंक दिया तथा उनके साथ हाथापाई करनी शुरू कर दी। इसी दौरान उन्होंने उसको नहर में धक्का दे दिया और वह नहर मेंं डुब गयी। जिसके बाद वह वापस रिजार्ट मे आ गये और उसके बाद पुलकित व अंकित हरिद्वार चले गये। अगले दिन किसी को शक ना हो तो पुलकित ने राजस्व चौकी पहुंचकर उसकी गुमशुदगी दर्ज करा दी थी। पुलिस ने तीनों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर शव की तलाश में चीला नहर में अभियान चलाया गया लेकिन देर सांय तक उसका शव बरामद नहीं हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here