लोगों की सुरक्षा पहली प्राथमिकताः धामी

0
64

सीएम ने किया प्रभावित क्षेत्र का दौरा
प्रभावितों को दिया मदद का भरोसा

जोशीमठ। भू—धसाव की जद में आए जोशीमठ के स्थलीय निरीक्षण के लिए पहुंचे सीएम पुष्कर सिंह धामी ने पहले हवाई सर्वेक्षण किया फिर इसके बाद प्रभावित क्षेत्रों का भ्रमण कर वास्तविक हालात की जानकारी ली। इस दौरान प्रभावित लोग भी अपने दुख का आवेग रोक नहीं सके और मुख्यमंत्री को सामने देख फफक—फफक कर रोते बिलखते दिखे। मुख्यमंत्री ने भी उन्हें ढांढस बंधाया और उन्हें उनके जानमाल की सुरक्षा का भरोसा दिया।
इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि उनकी सबसे पहली प्राथमिकता है कि प्रभावित लोगों की जान माल की सुरक्षा कैसे की जाए? उन्होंने कहा कि जिन लोगों के घर रहने लायक नहीं रह गए हैं उन लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाना और उनके खाने—पीने की तथा सर्दी से बचाव की व्यवस्था करना पहली प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि जोशीमठ जो एक पौराणिक महत्व और सामरिक दृष्टि से अति महत्व का शहर है उसका अस्तित्व खतरे में आ गया है। जिसे बचाने का हम हर संभव प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि यह एक दीर्घकालिक काम है जिस पर काम किया जा रहा है। इसरो से भी मदद लेने की बात हुई है। वैज्ञानिक इस आपदा का कारण तलाशने में लगे हैं। अगर पूरे शहर का विस्थापन भी करना पड़ता है तो उसके लिए अधिकारियों को तैयारियां करने को कहा गया है।
उन्होंने कहा कि सुरक्षा के सभी इंतजाम किए जा रहे हैं किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए आपदा प्रबंधन की टीमें भी अलर्ट हैं। केंद्र सरकार से निरंतर संपर्क बना हुआ है। उन्होंने कहा कि अभी यह कहना मुश्किल है कि आपदा का कारण क्या है? लेकिन सरकार द्वारा इस क्षेत्र में होने वाले सभी काम बंद करा दिए गए हैं। एलटीपीसी का काम बंद कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस गंभीर समस्या पर हर पल सरकार नजर बनाए हुए हैं। गनीमत है कि अभी तक किसी तरह की कोई जनहानि नहीं हुई है उन्होंने स्थानीय लोगों को भरोसा दिलाया है कि इस आपदा की घड़ी में वह घबराए नहीं सरकार उनके साथ है। उनकी जान माल की हर संभव सहायता की जाएगी।
उल्लेखनीय है कि अब 700 से अधिक घरों में दरारे आ चुकी है। खास बात यह है कि इनका दायरा लगातार बढ़ता जा रहा है तथा हर रोज यह दरारे और अधिक चौड़ी होती जा रही हैं। लोगों को अब यह भय सता रहा है कि उनका घर कभी भी धराशाई हो सकता है। पानी का रिसाव भी तेज और तेज होता जा रहा है जो बड़े खतरे का संकेत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here