पासिंग आउट परेड के बाद भारतीय सेना को मिले 288 सैन्य अधिकारी

0
653

देहरादून। देहरादून स्थित भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) से पास आउट होकर 288 जांबाज आज भारतीय सेना में शामिल हो गये। जबकि मित्र देशों के 89 कैडेट भी सैन्य अफसर बने।
भारतीय सैन्य अकादमी (आइएमए) में आज भव्य पासिंग आउट परेड आयोजित की गई। सेना की दक्षिण पश्चिमी कमान के जनरल आफिसर कमांडिंग इन चीफ ले. जनरल अमरदीप सिंह भिंडर बतौर रिव्यूइंग आफिसर परेड में पहुंंचे। सुबह 6 बजकर 40 मिनट पर मार्कर्स काल के साथ परेड शुरू हुई। कंपनी सार्जेंट मेजर विवेक कुमार, प्रणव, आर्यन सिंह, हिमांशु कुमार, जयेंद्र सिंह व अनिकेत ने ड्रिल स्क्वायर पर अपनी—अपनी जगह ली। 6 बजकर 45 मिनट पर एडवांस काल के साथ ही छाती ताने देश के भावी कर्णधार कदम बढ़ाते हुए परेड के लिए पहुंचे। निरीक्षण अधिकारी दक्षिण पश्चिमी कमान के कमांडर (जनरल आफिसर कमांडिंग—इन—चीफ) लेफ्टिनेंट जनरल अमरदीप सिंह भिंडर परेड स्थल पर पहुंचे और परेड का निरीक्षण किया।

निरीक्षण अधिकारी ने कैडेट्स को ओवरआल बेस्ट परफॉर्मेंस और अन्य उत्कृष्ट सम्मान से नवाजा गया। समस्तीपुर (बिहार) के मौसम वत्स को स्वार्ड आफ आनर से नवाजा गया, जबकि ऊधमसिंहनगर उत्तराखंड के नीरज सिंह पपोला को स्वर्ण, मौसम वत्स को रजत व मंडी हिमाचल प्रदेश के केतन पटियाल को कांस्य पदक मिला। दक्षिण दिल्ली के दिगांत गर्ग ने सिल्वर मेडल (टीजी) हासिल किया। भूटान के तेनजिन नामगे सर्वश्रेष्ठ विदेशी कैडेट चुने गए।
पासिंग आउट परेड में हिस्सा लेने वालों में उत्तर पद्रेश से 50, उत्तराखण्ड से 33, बिहार से 28 हरियाणा से 25, महाराष्ट्र से 22, पंजाब से 21, राजस्थान से 20, दिल्ली से 15, हिमाचल प्रदेश से 13, केरल से 9, मध्य प्रदेश से 8, तेलांगना व जम्मू कश्मीर से 6—6, तमिलनाडू और पश्चिमी बंगाल से 5—5, कर्नाटक से 4, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और त्रिपुरा से दो—दो, अरूणाचल, असम, छत्तीसगढ़, मणिपुर, सिक्कम और झारखण्ड से एक—एक व नेपाली मूल (भारतीय सेना) से छह कैडेट सहित मित्र देशों के 89 कैडेट शामिल रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here