अधिकारियों के दावे फुस्स : दुपहिया वाहनों से पटाखें छोडते घूम रहे हैं कांवडिये!

0
440

देहरादून। कांवड यात्रा शुरू होने से पूर्व दून पुलिस ने दावा किया था कि शहर के अन्दर कांवडियों को घुसने नहीं दिया जायेगा लेकिन अधिकारियों के दावे फुस्स होते दिखायी दे रहे हैं यहां धडल्ले से कांवडिये मोटरसाईकिलों से पटाखे छोडते घुमते दिखायी दे रहे हैं और पुलिस प्रशासन उनके सामने मौन दिखायी दिया।
उल्लेखनीय है कि प्रत्येक वर्ष कांवड यात्रा शुरू होने से पूर्व देहरादून के पुलिस अधिकारी दावे करते दिखायी देते हैं कि कांवडियों को शहर के अन्दर प्रवेश नहीं करने देंगे तथा मसूरी की तरफ तो उनका जाना ही नामुमकिन होगा। लेकिन अधिकारी दावे करते हैं और उनको दावों को कांवड यात्री झूठा साबित करते हुए धडल्ले से शहर व मसूरी में दिखायी देते हैं। अब पुलिस अधिकारी इस बात से इंकार भी कर सकते क्योंकि कई बार कांवड यात्रियों की मसूरी में स्थानीय लोगों से मारपीट के मामले भी सामने आये तथा मुकदमें भी दर्ज हुए इसलिए पुलिस अधिकारी इस बात को नकार नहीं सकते की कांवड यात्री इस दौरान दून में नहीं आये और न ही वह कभी मसूरी गये। वहीं पुराने दावे इस बार भी किये गये। दून पुलिस के द्वारा कांवड यात्रा शुरू होने से पूर्व दावा किया गया कि यहां पर कांवडियों को प्रवेश नहीं होने दिया जायेगा तथा बगैर साईलेंसर वाली मोटरसाईकिलों पर अगर कोई कांवडियां दून में आया तो उसके खिलाफ कार्यवाही की जायेगी। लेकिन पुलिस अधिकारियों के दावों को पलीता लगाते दून के दिल घंटाघर से सुबह से दर्जनों कांवडिये जानबूझ कर पटाखे छोडते हुए निकल रहे हैं लेकिन यहां पर पुलिस अधिकारियों व यातायात पुलिस के किसी भी जवान को नहीं देखा गया कि उसने इनके खिलाफ कोई कार्यवाही तो छोडो इनको रोकने का प्रयास भी किया हो। जबकि यातायात पुलिस के कई जवान जिनमें से सीपीयू कर्मी घंटाघर पर खडे होकर अपने कर्त्तव्य को इस प्रकार निभाते हैं जैसे इनसे ज्यादा यातायात के नियमों का पालन कराने वाला कोई नहीं होगा। लेकिन कांवडियों के सामने यह भी ट्टबोने’ साबित होते दिखायी दिये। अब देखने वाली बात है कि आज भी दून का पुलिस प्रशासन वहीं पुराना रिकार्ड बजाता दिखायी दिया जो कि इससे पूर्व बजता रहा कि कांवडियों को शहर में घुसने नहीं दिया जायेगा!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here