गृह मंत्री का फर्जी लैटर पैड सोशल मीडिया मेें वायरल

0
303

मुख्यमंत्री को नूपुर व अजय को जेड प्लस सुरक्षा देने के लिए लिखा
एसटीएफ ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की

देहरादून। गृह मंत्री भारत सरकार के मुख्यमंत्री को सम्बोधित एक फर्जी लैटर पैड सोशल मीडिया में वायरल होने से प्रदेश में हलचल मच गयी। इसमें नूपुर शर्मा व अजय गुप्ता को जेडप्लस श्रेणी की सुरक्षा देने के बारे में लिखा गया है। सोशल मीडिया में इसके वायरल होने से प्रदेश की एसटीएफ भी हरकत मे आयी और मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी।
आज प्रातः से ही गृह मंत्री अमित शाह का एक फर्जी लैटर हैड सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ है। जिसमें साफ शब्दो में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को सम्बोधित कर लिखा है। पत्र में भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा के कार्यो की तारीफ की गयी तथा उसको आरएसएस व हिन्दूू धर्म के लिए अच्छा काम करना बताया गया है। पत्र मे यह भी कहा गया है कि नूपुर शर्मा व अजय गुप्ता को तत्काल प्रभाव से जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा दी जाये तथा उत्तराखण्ड में रह रहे उनके परिजनों को भी जेड प्लस सुरक्षा दी जाये। गृह मंत्री अमित शाह के पत्र के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद उत्तराखण्ड शासन व प्रशासन मे हडकम्प मच गया और अधिकारियो ने इसको फर्जी करार दिया। वहीं एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि उत्तराखंड एसटीएफ उत्तराखण्ड मे सोशल मीडिया इंटरवेशंन सैल (एसएमआईसी) कार्यरत हैै। जिसका उद्ेदश्य सोशल मीडिया पर किसी भी प्रकार की भ्रामक एंव गलत सूचना प्रसारित होने पर तत्काल प्रभाव से विश्लेषण कर वैधानिक एंव उचित कार्यवाही करना साथ मे इस सैल द्वारा ऐसी किसी भी सोशल मीडिया पोस्ट को अतिशीघ्र उस प्लेट फार्म से हटाना जिससे की समाज मे किसी भी प्रकार की कानून व्यावस्था की समस्या उत्पन्न न हो सकें। इस मीडिया इंटरवेशंन सैल (एसएमआईसी) को एक पोस्ट प्राप्त हुई जिसमें गृह मंत्री के लैटर पैड पर एक सशंय पैदा करने वाला एक पत्र लिखा गया था। इस पत्र की प्रथमदृष्टया जांच के उपरान्त प्रतीत होता है की गृह मंत्री भारत सरकार के पत्र का रुपांतरण कर इस प्रकार से समाज मे कानून व्यवस्था बाधित करने हेतु भ्रामक सूचना प्रसारित की गयी है। एसटीएफ उत्तराखण्ड द्वारा सुसगंत धाराओ मे अभियोग पजींकृत करने की कार्यवाही प्रराम्भ की गयी है साथ ही अपील की गई है की भ्रामक खबर की बिना सत्यता जाने कोई भी पोस्ट सोशल मीडिया पर प्रचार प्रसार न करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here