विद्यालय में हुई छात्राओं से छेड़छाड, मुकदमा दर्ज

0
184

उधमसिंहनगनर। खटीमा नगर के एकलव्य आदर्श आवासीय विघालय की छात्राओं के साथ ड्रेस की नाप लेने के नाम पर छेड़छाड़ एवं अभद्रता की गई। जिसके विरोध में आक्रोशित अभिभावकों ने विघालय पहुंच कर हंगामा काटा। जिसके बाद विघालय प्रशासन ने विघालय स्टाफ के तीन सदस्यों को मामले में संलिप्त होने एवं काम में लापरवाही बरतने के आरोप में संस्पेंड कर दिया है। वहीं मामले की तहरीर मिलने पर पुलिस ने जंाच शुरू कर दी है।
बता दें कि खटीमा के एकलव्य आदर्श आवासीय विघालय में छात्राओं की ड्रेस बनाई जानी थी। जिसके लिए खटीमा नगर के सिद्धार्थ गारमेंट्स से एक सहायक प्रतीक तिवारी के साथ दो दर्जी मोहम्मद कुमार एवं मोहम्मद शकील विघालय में बुलाए गए जिनके द्वारा ड्रेस की नाप लेने के नाम पर छात्राओं के साथ छेड़छाड़ की गई। इस दौरान विघालय के तीन स्टाफ कर्मचारियों अशोक आर्य, ममता खोलिया और चंद्रशेखर भी मौके पर मौजूद थे। जिन्होंने छात्राओं के विरोध के बावजूद भी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। घटना की जानकारी होने पर आक्रोशित अभिभावकों ने विघालय पहुंचकर विघालय प्रशासन का घेराव कर दिया और जमकर नारेबाजी की।
छात्राओं के अभिभावको के द्वारा विघालय में हंगामा काटे जाने की सूचना पर उप जिलाधिकारी रविंद्र बिष्ट तुरंत मौके पर पहुंचे और अभिभावकों को समझा बुझा कर शांत किया। अभिभावकों ने मामले में दोषी दर्जीयों सहित मौके पर मौजूद स्कूल स्टाफ के खिलाफ भी सख्त कार्यवाही किए जाने की मांग की। जिस पर उपजिलाधिकारी ने अभिभावकों को मामले में उचित कार्यवाही किए जाने का आश्वासन देते हुए विघालय प्रशासन को मामले में लिप्त अध्यापकों को तुरंत सस्पेंड किए जाने एवं विघालय प्रशासन द्वारा मामले की एफआईआर दर्ज कराए जाने के निर्देश भी दिए गए।
वहीं एकलव्य विघालय में छात्राओं के साथ हुई छेड़छाड़ की सूचना पर उप नेता प्रतिपक्ष एवं खटीमा विधायक भुवन कापड़ी भी विघालय पहुंचे और अभिभावकों से पूरे मामले की जानकारी ली। विधायक भुवन कापड़ी ने भी विघालय प्रशासन से मामले की पुलिस रिपोर्ट दर्ज करा कर आवश्यक कार्यवाही किए जाने की मांग की। वही अभिभावक संघ के द्वारा खटीमा कोतवाली में मामले की रिपोर्ट दर्ज कराई गई है और पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है। वही ंइस मामले में सिद्धार्थ गारमेंट के स्वामी संजय सिद्धार्थ ने कहा कि नाप जोक की पूरी कार्यवाही सीसीटीवी कैमरे के सामने हुई है जो भी सत्य होगा वह जांच में आ जाएगा। हमारे कर्मचारी अगर दोषी पाए जाते हैं तो कानून अपना काम करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here