कांग्रेस में हार पर रार

0
726

कपिल सिब्बल बोले घर की कांग्रेस न हो सबकी कांग्रेस हो
मैं अगर इतनी बड़ी बुराई तो मुझे होलिका के साथ दहन कर दोः हरीश

नई दिल्ली/देहरादून। पांच राज्यों में हार के बाद कांग्रेस में दिल्ली से लेकर देहरादून तक घमासान मचा हुआ है। हार की समीक्षा के नाम पर कांग्रेसी नेताओं के बीच जिस तरह की तकरार और आरोप—प्रत्यारोपों की बौछार हो रही है उसका पूरा आनंद भाजपा ले रही है। कांग्रेस के कुछ नेता पार्टी के लोगों से अपील कर रहे हैं कि जो कुछ कहना है पार्टी फोरम में अपनी बात रखें और सोशल मीडिया में बयान देकर पार्टी को नुकसान नहीं पहुंचाए। लेकिन उनकी इस अपील का कहने वालों पर कोई असर नहीं हो रहा है।
बीते कल दिल्ली में हुई आईसीसी की 5 घंटे लंबी चली बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव से लेकर प्रदेश संगठनों तक में बड़े बदलाव पर चर्चा हुई। आज कपिल सिब्बल ने एक बार फिर परिवारवाद को लेकर कड़ा प्रहार किया है। उनका कहना है कि कांग्रेस घर की कांग्रेस नहीं होनी चाहिए सबकी कांग्रेस होनी चाहिए। इस मुद्दे पर कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व दो भागों में बंटा हुआ है एक गुट का मानना है कि कांग्रेस का अस्तित्व गांधी परिवार के बिना संभव नहीं है जबकि दूसरा पार्टी को परिवारवाद से मुक्ति की पैरोंकारी कर रहा है। पीएम मोदी ने चुनावी नतीजों के बाद परिवार वादियों का सफाया होने को लेकर जो बात कही उससे कांग्रेस की रार और बढ़ गई है।
उधर बीते कल पूर्व सीएम हरीश रावत पर रंजीत रावत ने जो गंभीर आरोप लगाए हैं उन्हें लेकर सूबे की कांग्रेस में भारी हलचल पैदा हो गई है। रंजीत रावत के आरोपों पर हरीश रावत इस कदर आहत है कि उन्होंने भी सोशल मीडिया पर एक लंबा चौड़ा पोस्ट लिख कर डाला है और कहा है कि एक बड़े पदाधिकारी द्वारा उन पर जो आरोप लगाए गए हैं वह अत्यंत ही गंभीर हैं उनका कहना है कि अगर हरीश रावत इतनी बड़ी बुराई है तो उन्हें होलिका दहन के साथ दहन कर देना चाहिए। उन्होंने कांग्रेस हाईकमान से अपने निष्कासन की अपील भी की है। उल्लेखनीय है कि बीते कल उनके निकट सहयोगी रहे रंजीत रावत ने उन पर टिकट बेचने का आरोप लगाते हुए कहा था कि वह झूठ बोलने की राजनीति में माहिर है। रंजीत रावत ने उन पर अन्य कई गंभीर आरोप भी लगाए थे। चुनाव परिणामों के बाद कांग्रेसी नेताओं के बीच इस तरह के आरोप प्रत्यारोप लगाए जा रहे हैं वह कांग्रेस की छवि को न सिर्फ खराब कर रहे हैं बल्कि इससे पार्टी को भारी नुकसान हो रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here