बद्रीनाथ धाम में धड़ल्ले से चल रहा है अवैध निर्माण

0
295

माफिया व मंदिर समिति के लोग लगा रहे हैं पीएम की परियोजना को पलीता
देहरादून। बद्रीनाथ धाम में इन दिनों व्यापक स्तर पर अवैध निर्माण धड़ल्ले से जारी है। खास बात यह है कि यह निर्माण कार्य माफिया और मंदिर समिति की मिलीभगत से हो रहा है जिसकी संबंधित अधिकारियों को भी जानकारी है। लेकिन इसके खिलाफ कोई कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।


बद्रीनाथ धाम के पुनर्निर्माण और सौंदर्यीकरण की जो योजना गतिमान है उसकी निगरानी खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की जा रही है। पीएम का यह ड्रीम प्रोजेक्ट 425 करोड़ का है, जिसे 3 चरणों में पूरा किया जाना है। प्रधानमंत्री कि इस अति महत्वकांक्षी योजना को माफिया और मंदिर समिति के लोगों की मिलीभगत से कैसे धज्जियां उड़ाई जा रही है यह तस्वीरें इसकी साक्षी है। जिस जमीन पर यह अवैध निर्माण किया जा रहा है वह सरकार द्वारा मंदिर समिति को लीज पर दी गई जमीन है जिस पर किसी भी तरह के निर्माण या उसे बेचने का अधिकार समिति के पास नहीं है। इसके बाद भी इस जमीन पर यहां अवैध निर्माण कैसे कराया जा रहा है, निर्माण कौन कर रहा है तथा निर्माण कौन करा रहा है इसकी जानकारी अगर संबंधित अधिकारियों को है तो वह इस अवैध निर्माण को रोकने के लिए कुछ भी कार्रवाई क्यों नहीं कर रहे हैं?

उल्लेखनीय है कि केदारनाथ आपदा के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने केदारधाम के नव निर्माण की योजना के पूरा होने के साथ बद्रीनाथ धाम के सौंदर्यीकरण की महत्वकांक्षी योजना शुरू की है। जिसकी निगरानी स्वयं प्रधानमंत्री कर रहे हैं लेकिन इसकी आड़ में माफिया और मंदिर समिति के लोग यहां अवैध निर्माण में जुटे हुए हैं जिससे पीएम की योजना पर सवालिया निशान लगना स्वाभाविक है।
 देवभूमि में माफिया हर योजना में अपना फायदा तलाश लेते हैं। गैरसैंण को राजधानी बनाने की कवायद के साथ ही माफिया ने वहां बड़े पैमाने पर जमीनों की खरीद—फरोख्त शुरू कर दी थी जिस पर सरकार ने बाद में संज्ञान लिया था। ठीक वैसा ही कुछ अब बद्रीनाथ धाम में भी देखा जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here