बर्खास्त कर्मचारियों का धरना जारी

0
185

पांचवें दिन परिजनों के साथ बैठे धरने पर
मंत्री प्रसाद नैथानी पहुंचे समर्थन देने

देहरादून। विधानसभा में बैकडोर भर्तियों को लेकर बर्खास्त किए गए 228 कर्मचारियों का धरना प्रदर्शन आज पांचवे दिन भी जारी रहा। बर्खास्त कर्मचारियों ने अपने परिजनों के साथ धरना प्रदर्शन किया। उनकी मांग है कि या तो सरकार द्वारा राज्य गठन से लेकर अब तक की गई सभी भर्तियों को निरस्त किया जाए अथवा उन्हें भी बहाल किया जाए। धरने पर बैठे इन कर्मचारियों को समर्थन देने के लिए पहली बार कोई नेता पहुंचा। धरने पर बैठे कर्मचारियों को समर्थन देने पहुंचे मंत्री प्रसाद नैथानी ने कहा कि उनकी मांगे उचित है सरकार को इस पर गंभीरता से विचार करना चाहिए।
उल्लेखनीय है कि विधानसभा अध्यक्ष द्वारा 2016 के बाद विधानसभा में भर्ती किए गए 228 लोगों को बर्खास्त कर दिया गया था। जिसके खिलाफ यह कर्मचारी हाईकोर्ट पहुंचे थे जहां सिंगल बेंच द्वारा उनके पक्ष में निर्णय देते हुए उनके निष्कासन पर रोक लगा दी गई थी और उन्हें ज्वाइन कराने के निर्देश दिए गए थे लेकिन हाईकोर्ट की ही डबल बेंच ने सिंगल बेंच के निर्णय को पलट दिया गया तथा बर्खास्तगी को सही ठहराया गया था। डबल बेंच के निर्णय को इन कर्मचारियों द्वारा सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने भी हाईकोर्ट की डबल बेंच के फैसले को ही सही ठहराते हुए विधानसभा अध्यक्ष के फैसले को उचित बताया गया था।
अब न्यायालीय लड़ाई हार चुके इन कर्मचारियों के पास धरना प्रदर्शन और आंदोलन का ही जरिया शेष बचा है अपनी बहाली की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे इन कर्मचारियों का कहना है कि जब इस मामले की जांच करने वाली समिति ने सभी नियुक्तियों को गलत ठहराया गया है तो फिर सभी नियुक्तियों को रद्द किया जाना चाहिए, सिर्फ 2016 के बाद के कर्मचारियों को बर्खास्त किया जाना उनके साथ अन्याय है। कर्मचारियों का कहना है कि जब तक उन्हें न्याय नहीं मिलेगा उनका आंदोलन जारी रहेगा। पूर्व मंत्री व कांग्रेसी नेता मंत्री प्रसाद नैथानी भी आज इन कर्मचारियों के समर्थन में धरनास्थल पहुंचे उन्होंने कर्मचारियों की मांग को उचित बताते हुए कहा कि सरकार को पूरा न्याय करना चाहिए साथ ही उन्होंने इन अवैध भर्तियां करने वालों पर भी कार्रवाई करने की मांग उठाई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here