सुप्रीम कोर्ट से रणवीर मुठभेड काण्ड के पांच पुलिसकर्मियों को मिली जमानत

0
119

देहरादून। रणवीर मुठभेड काण्ड में 13 साल से जेल में बंद एक इंस्पेक्टर, तीन दरोगा व कांस्टेबल को सुुप्रीम कोर्ट से जमानत मिल गयी है।
उल्लेखनीय है कि तीन जुलाई 2009 को बागपत निवासी रणवीर यहां अपने दो अन्य मित्राें के साथ नौकरी के लिए इंटरव्यू देने आया था। इसी दौरान आराघर चौकी प्रभारी गोपाल दत्त भट्ट ने वायरलैस पर सूचना दी कि मोटरसाईकिल सवार तीन युवकों ने उसके साथ मारपीट करते हुए उसका पिस्टल लूट लिया था। जिसके बाद पुलिस ने नाकेबंदी कर रणवीर को लाडपुर के जंगल में मुठभेड में मार गिराने का दावा किया तथा पुलिस का कहना था कि यह वहीं युवक था जिसने अपने साथियो के साथ मिलकर दरोगा भट्ट की पिस्टल लूटी थी। घटना वाले दिन देश की राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल मसंूरी स्थित लालबहादुर शास्त्री एकेडमी में आयी थी तथा बाहर से यहां आयी मीडिया को वहां एंट्री नहीं मिली तो उन्होंने रणवीर इंन्काउटर को लाइव दिखाना शुरू कर दिया था। जिसके अगले ही दिन रणवीर के परिवार वाले दून पहुुंचे और उन्होंने दून चिकित्सालय की मोर्चरी के बाहर बैठकर अपने पुत्र का मुंह दिखाने के लिए पुलिस अधिकारियों से गुहार लगायी थी लेकिन पुलिस ने दून चिकित्सालय के बाहर ही रणवीर के परिवार वालों पर लाठीचार्ज कर उनको वहां से भगा दिया था। पांच जुलाई को हुए पोस्टमार्टम रिपोर्ट में रणवीर के शरीर पर 25 चोटें व 22 गोलियों के निशान पाये गये। 6 जुलाई को रणवीर के पिता ने पुलिस कर्मियो के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया। 7 जुलाई को मामले की सीबीसीआईडी जांच शुरू हुई और 8 जुलाई को नेहरू कालोनी थाने से रिकार्ड जब्त कर लिये गये। इस मामले में किसान नेता महेन्द्र सिंह टिकैत व राजनाथ सिंह को दखल देना पडा था तब जाकर तत्कालीन मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने 8 जुलाई को मामले की सीबीआई जांच कराने की सिफारिश की थी। 31 जुलाई को सीबीआई की टीम दून पहुंची तो उन्होंने पोस्टमार्टम रिपोर्ट का अवलोकन किया जिसमेें रणवीर कर इस मुठभेड को फर्जी करार दिया। जिसके बाद सीबीआई ने 18 पुलिस कर्मियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी थी। रणवीर के पिता ने मामले की सुनवायी गाजियाबाद या फिर दिल्ली में कराने का न्यायालय में आग्रह किया था जिसके बाद मामले की सुनवायी दिल्ली में शुरू हुई तथा सभी आरोपियों को दिल्ली भेज दिया गया। 6 जून 2010 को सभी न्यायालय ने 18 पुलिसकर्मियों को दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनायी थी। इस मामले में हाईकोर्ट से साक्ष्य ना होने की वजह से 11 पुलिस कर्मियों को छोड दिया गया था। शासकीय अधिवक्ता जीसी पंचौली ने बताया कि जेल में बंद सात पुलिस कर्मियों मेंं से दरोगा चन्द्रमोहन सिंह रावत व राजेश बिष्ट को 17 अक्टूबर को सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिल गयी थी। आज सुप्रीम कोर्ट ने जमानत पर सुनवायी के बाद तत्कालीन डालनवाला कोतवाली संतोष जयसवाल, गोपाल दत्त भट्ट, तत्कालीन एसओजी प्रभारी नीतिन चौहान, नीरज यादव व कांस्टेबल अजीत को जमानत पर रिहा करने के आदेश कर दिये हैं। यह एक संयोग ही होगा कि शुव्रQवार को रणवीर इन्काउंटर हुआ था तथा शुव्रQवार को ही इनको जमानत मिली।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here