बेरोजगारों को लेकर आया जौनसारी गीत

0
419

देहरादून। उत्तराखंड राज्य में हुए भर्ती घोटालों और युवा बेरोजगारों के उत्पीडन की पीड़ा को बयां करने वाला एक वीडियो इन दिनों अच्छी खासी सुर्खियां बटोर रहा है। जौनसारी लोकगीत के माध्यम से जिस तरह से शासन—प्रशासन को गीतकार और गायक ने सच का आईना दिखाने का काम किया उसकी चारों तरफ सराहना हो रही है। यह बात अलग है कि शासन—प्रशासन में बैठे लोगों को यह पसंद न आ रहा हो और उनके सीने में तीर की तरह चुभ रहा हो लेकिन सच कहने वाले तो सच कहते ही रहेंगे।
तत्कालीन स्व. मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के शासनकाल में उत्तराखंड के मशहूर लोक गायक नरेंद्र सिंह नेगी द्वारा गाए गए `नौछमी नरैणा और पिछले दिनों गाये गीत `लोकतंत्रमा’ ने जिस तरह से सूबे के राजनीतिक हलकों में तहलका मचा दिया था ठीक उसी की तर्ज पर इस जौनसारी लोकगीत को गाकर किशन सिंह तोमर भी खूब सुर्खियां बटोर रहे हैं। ऐसा एक और लोकगीत अंग्रेजी शराब को लेकर चर्चाओं में रह चुका है। उत्तराखंड के लोक गायक और रचनाकार समय—समय पर शासन—प्रशासन को उनकी करतूतों को लेकर न सिर्फ सतर्क करते रहे हैं बल्कि उन्हें उनके सच से रूबरू कराते रहे हैं लेकिन यह अलग बात है कि सूबे के नेता व अधिकारी कुछ भी समझने और मानने को तैयार नहीं है।
सूबे में जिस तरह से सरकारी नौकरियों की लूटपाट हुई और नकल माफिया ने युवा बेरोजगारों के सपनों को चकनाचूर किया वह वास्तव में अत्यंत ही हैरान करने वाला है। इस गीत में युवा बेरोजगारों पर लाठियां फटकारने वाले नेता व अधिकारियों को जिस तरह से युवा गीतकार ने फटकारा है और लोगों से अपील की है कि वह जब तुम्हारे गांव में वोट मांगने के लिए आए तो उनका स्वागत जूतों की मालाओं से करना, उनके दर्द की पराकाष्ठा को ही बयां करता है। यह सच है कि अब वह वक्त नहीं रहा है जब लोगों की सोच होती थी कि ट्टनिंदक नियरे राखिए आंगन कुटी छवाय’। आज के लोगों को तो चापलूसों की जरूरत है निंदको की नहीं। निंदक तो आज के दौर में सबसे बड़े दुश्मन हो चुके हैं लेकिन लोकगायक या संगीतकार और साहित्यकार भी अपना धर्म कैसे छोड़ सकते हैं वह समाज को आईना दिखाने के लिए पैदा होते हैं। अभी बीते दिनों उत्तर प्रदेश की एक लोक गायिका नेहा सिंह ने अपने गीत के माध्यम से शासन—प्रशासन को आईना दिखाने का काम किया था अब उन्हें प्रशासन द्वारा समाज को भड़काने व तनाव फैलाने का नोटिस दिया जा चुका है। इसलिए निदंकों को ऐसी स्थितियों के लिए भी तैयार रहना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here