उधमसिंह नगर जिले की फायर सेफ्टी खतरे में

0
217


1102 अनिवार्य फायर एनओसी उघोगों द्वारा नहीं ली गयी

देहरादून। वर्ष 2018 से 2022 तक उधमसिंह नगर जिले के 6 फायर स्टेशन क्षेत्रों में 1102 अनिवार्य अग्निशमन विभाग की एन.ओ.सी. उघोगों/प्रक्रिया चलाने वालों ने नहीं ली है। वर्ष 2022 में 3 दिसम्बर तक ऐसी एन.ओ.सी. न लेने वालों की संख्या 265 है। यह खुलासा सूचना अधिकार कार्यकर्ता नदीम उद्दीन को जिला मुख्यालय के लोक सूचना अधिकारी/पुलिस अधीक्षक नगर मनोज कुमार कत्याल द्वारा उपलब्ध करायी गयी है।
सूचना अधिकार कार्यकर्ता नदीम उद्दीन ने उत्तराखंड पुलिस मुख्यालय से उत्तराखंड में अग्निशमन सुरक्षा सम्बन्धी विभिन्न सूचनायें मांगी थी। इसे उधमसिंह नगर जिला मुख्यालय के लोक सूचना अधिकारी को हस्तांतरित होने पर लोक सूचना अधिकारी/पुलिस अधीक्षक नगर रूद्रपुर मनोज कुमार कत्याल ने अपने पत्रांक 643 के साथ मुख्य अग्निशमन अधिकारी उधमसिंह नगर वंश बहादुर यादव द्वारा 3 दिसम्बर 2022 के साथ उपलब्ध विवरणों की प्रति उपलब्ध करायी गयी है। उपलब्ध करायी गयी सूचना के विश्लेषण के अनुसार उधमसिंह नगर जिले के 6 फायर स्टेशनों के क्षेत्रान्तर्गत वर्ष 2018 से 2022 (सूचना उपलब्ध कराने तक) कुल 1102 उघोगों/प्रक्रिया चलाने वालों ने अग्नि सुरक्षा सम्बन्धी अनिवार्य एन.ओ.सी. प्राप्त नहीं है। इसमें सर्वाधिक 702 रूद्रपुर, दूसरे स्थान पर 138 पन्तनगर तथा तीसरे स्थान पर 109 काशीपुुर फायर स्टेशन क्षेत्रान्तर्गत है। इसके अतिरिक्त जसपुर क्षेत्र के 56, खटीमा के 24 तथा सितारगंज के 73 उघोग/प्रक्रिया चलाने वाले शामिल है।
वर्ष वार विवरण के अनुसार वर्ष 2018 में ऐसे एन.ओ.सी. न लेने वालों की संख्या 128, वर्ष 2019 में 164, वर्ष 2020 में 205, वर्ष 2021 में 340 तथा वर्ष 2022 में 3 दिसम्बर तक 265 रही है। वर्ष 2018 में कुल 128 में रूद्रपुर केे 75, जसपुर के 7, पंतनगर के 20, काशीपुर के 6, खटीमा के 4, सितारगंज के 16 उघोग शामिल है। वर्ष 2019 में कुल 164 फायर एन.ओ.सी ने लेने वालों में रूद्रपुर के 94, जसपुर के 4, पन्तनगर के 30, काशीपुर के 15, खटीमा के 5, सितारगंज के 16 शामिल है। वर्ष 2020 में कुल 205 में रूद्रपुर के 127, जसपुर के 5, पन्तनगर के 22, काशीपुर के 25, खटीमा के 4 तथा सितारगंज के 22 उघोग शामिल है। वर्ष 2021 में कुल 340 में रूद्रपुर के 237, जसपुर के 7, पन्तनगर के 30, काशीपुर के 55, खटीमा के 4 तथा सितारगंज के 7 उघोग शामिल रहे है। वर्ष 2022 में 3 दिसम्बर तक कुल 265 ऐसे मामलों में 169 रूद्रपुर, 33 जसपुर, 36 पन्तनगर, 8 काशीपुर, 7 खटीमा तथा 12 सितारगंज के शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here