फ्लोर टेस्ट में पास हुए चंपई सोरेन, पक्ष में पड़े 47 वोट पड़े

0
103


रांची। झारखंड की चंपई सोरेन सरकार ने विधानसभा में विश्वासमत हासिल कर लिया है. सोरेन सरकार के समर्थन में 47 वोट मिले हैं. वहीं, सरकार के खिलाफ 29 वोट पड़े. बता दें कि झारखंड में कुल 81 सीटें हैं, जिसमें सरकार बनाने के लिए 41 विधायकों की जरूरत पड़ती है. विधानसभा के विशेष सत्र में सीएम चंपई सोरेन की ओर से विश्वास मत का प्रस्ताव सदन में पेश किया गया। 82 सदस्यीय विधानसभा में गांडेय विधानसभा सीट जेएमएम विधायक सरफराज अहमद के त्यागपत्र के कारण खाली है। जबकि जेएमएम रामदास सोरेन और बीजेपी के इंद्रजीत महतो विधानसभा नहीं पहुंच गए। घाटशिला के जेएमएम विधायक रामदास सोरेन किडनी की समस्या के कारण दिल्ली के अस्पताल में भर्ती हैं। वहीं बीजेपी विधायक इंद्रजीत महतो लंबे समय से हैदराबाद के एक अस्पताल में इलाजरत हैं। विश्वास मत प्रस्ताव के पक्ष में 47 वोट प्राप्त हुए, जबकि विरोध में 29 मत मिले। विधानसभा में विश्वास मत प्रस्ताव पेश करते हुए सीएम चंपई सोरेन ने कहा कि केंद्रीय जांच एजेंसियों का दुरुपयोग कर हेमंत सोरेन को फंसाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि ईडी ने हेमंत सोरेन को उस मामले में गिरफ्तार किया है, जिसका कोई खाता-बही नहीं हैं। जबकि बीजेपी विधायक भानू प्रताप शाही का ईडी ने 7 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की, लेकिन उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो रही।
गौरतलब है कि इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पिछले महीने की आखिरी तारीख को कथित मनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तारी से पहले अपना पद छोड़ दिया था। जिसके बाद झारखंड मुक्ति मोर्चा के वरिष्ट नेता चंपई सोरेन को प्रदेश के मुख्यमंत्री का पद सौंपा गया था। उन्होंने पिछले हफ्ते शक्रवार को मुख्यमंत्री पद का शपथ ग्रहण किया था और राज्य की कमान अपने हाथों में ली थी। अब आज चंपई सोरेन सरकार झारखंड विधानसभा में विश्वास मत प्राप्त करके राज्य की कमान हासिल करने में कामयाब हो गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here