महंगाई की मार: सब्जियों के दाम आसमान पर

0
634

नींबू 300 रूपये किलो, लौकी तोरई 60, बींस 80 रुपए किलो

देहरादून। पेट्रोल—डीजल की कीमतों में वृद्धि का असर अब अन्य आम उपभोक्ता वस्तुओं पर दिखाई देने लगा है। खासतौर पर सब्जियों के भाव पर इसका सबसे ज्यादा असर देखा जा रहा है। हर सब्जियों की कीमतें तेजी से बढ़ रही है जिसका असर अब हर परिवार की रसोई पर पड़ रहा है।
सीजन में आने वाली सब्जियों की जब बाजार में आमद शुरू हुई थी तब उम्मीद की जा रही थी कि अब आम आदमी को थोड़ी राहत मिल सकेगी लेकिन 20 रूपये किलो मिलने वाली लौकी के दाम एक सप्ताह में ही दोगुने से ऊपर निकल गए अब लौकी 60 रूपये और तुराई 60 रूपये किलो मिल रही है तथा शिमला मिर्च जो एक सप्ताह पूर्व 40 रूपये किलो थी उसके दाम भी 80 रूपये किलो हो गए हैं। प्रQासबीन भी 40 रूपये प्रति किलो से बढ़कर 60 रूपये प्रति किलो तक पहुंच गई है। फूलगोभी जो 25 से 30 रूपये किलो थी वह अब 40 रूपये किलो मिल रही है। नींबू की कीमत ने तो सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं और 100 रूपये किलो मिलने वाला नींबू अब 300 रूपये किलो पर पहुंच गया है। देसी खीरा बाजार में 50 रूपये किलो मिल रहा है वही मटर के दाम भी 30 रूपये से बढ़कर 50 रूपये किलो हो गए हैं। सिर्फ आलू और टमाटर के दाम स्थिर बने हुए हैं। इसके अलावा आज बाजार में मिलने वाली कोई भी सब्जी 50 रूपये किलो से नीचे नहीं मिल रही है। यहां तक कि हरा कद्दू 40 वह पीला कद्दू 50 रूपये किलो बिक रहा है। करेला 90 से 100 रूपये किलो है तथा भिंडी 80 रूपये किलो। ऐसी स्थिति में अब लोग किलो का आधा किलो और आधा किलो की जगह एक पाव सब्जी खरीदने पर विवश है।
खास बात यह है कि अन्य खाघ वस्तुओं की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी का क्रम जारी है। खाघ तेल, दालें और आटा—चावल के दामों में भी तेजी देखी जा रही है वहीं फलों के दाम भी बढ़ रहे हैं। व्यापारियों का कहना है कि रमजान और नवरात्रों के त्योहारों के कारण कुछ मांग बढ़ने का असर भी कीमतों पर पड़ा है। यही नहीं कीमतें बढ़ने के पीछे पेट्रोल डीजल की कीमतें बढ़ने को ही अहम कारण माना जा रहा है। लोग इस बात को लेकर परेशान हैं की पेट्रोल—डीजल की कीमतें तो हर रोज बढ़ रही है आज फिर इनकी कीमतों में इजाफा हुआ तब ऐसे में आने वाले समय में क्या होगा?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here