देश के शीर्ष पहलवानों ने भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

0
51

नई दिल्ली। विनेश फोगाट, बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक समेत देश के शीर्ष पहलवानों ने भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष पर यौन उत्पीड़न और मानसिक प्रताड़ना का आरोप लगाया है और उन्हें पद से हटाने की मांग को लेकर दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। केंद्रीय खेल मंत्रालय ने इसका संज्ञान लिया है और भारतीय कुश्ती महासंघ से 72 घंटों के भीतर जवाब मांगा है। मंत्रालय की ओर से जारी प्रेस रिलीज के मुताबिक, ‘दिल्ली में ओलंपिक और राष्ट्रमंडल खेलों के पदक विजेताओं सहित अन्य पहलवानों द्वारा किए गए विरोध और एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का संज्ञान लेते हुए, जिसमें पहलवानों ने भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह और कोचों पर महिला पहलवानों के यौन उत्पीड़न के गंभीर आरोप लगाए हैं और महासंघ के कामकाज में कुप्रबंधन का हवाला दिया है, खेल मंत्रालय ने डब्ल्यूएफआई से स्पष्टीकरण मांगा है और उसे रेसलर्स की ओर से लगाए गए आरोपों पर अगले 72 घंटों के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया है।’ खेल मंत्रालय ने यह भी कहा कि ‘चूंकि मामला एथलीटों की भलाई से संबंधित है, इसलिए मंत्रालय ने इस मामले को बहुत गंभीरता से लिया है.। यदि डब्ल्यूएफआई निर्धारित समय के भीतर जवाब देने में विफल रहता है, तो खेल मंत्रालय ने कहा कि वह राष्ट्रीय खेल विकास संहिता, 2011 के प्रावधानों के अनुसार महासंघ के खिलाफ आगे की कार्रवाई शुरू करेगा. मंत्रालय ने यह भी उल्लेख किया कि 18 जनवरी से शुरू होने वाला राष्ट्रीय कुश्ती शिविर फिलहाल रद्द कर दिया गया है. खेल मंत्रालय ने अपने बयान में कहा, ’18 जनवरी, 2023 से लखनऊ में भारतीय खेल प्राधिकरण के राष्ट्रीय उत्कृष्टता केंद्र में 41 पहलवानों और 13 प्रशिक्षकों और सहायक कर्मचारियों के साथ शुरू होने वाला महिला राष्ट्रीय कुश्ती प्रशिक्षण शिविर रद्द कर दिया गया है। एनसीओई लखनऊ के कार्यकारी निदेशक को निर्देशित किया गया है कि वह उन सभी खिलाड़ियों को सुविधाएं प्रदान करें, जो पहले से ही रिपोर्ट कर चुके हैं या जिनके रिपोर्ट करने की संभावना है, जब तक कि एथलीट वहां से प्रस्थान नहीं कर लेते. सभी एथलीट्स को राष्ट्रीय कोचिंग शिविर रद्द करने के संबंध में आवश्यक सूचना भी भेज दी गई है। विश्व चैंपियनशिप की पदक विजेता और मशहूर रेसलर विनेश फोगाट ने आरोप लगाया कि डब्ल्यूएफआई के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह कई वर्षों से महिला पहलवानों का यौन शोषण कर रहे हैं और उन्हें हटाने के लिए प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के हस्तक्षेप की मांग की. फोगट ने स्पष्ट किया कि उन्होंने खुद इस तरह के शोषण का सामना नहीं किया है, लेकिन दावा किया कि उन्हें डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष के कहने पर जान से मारने की धमकी मिली थी। बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक समेत अन्य रेसलर्स के साथ दिल्ली में जंतर-मंतर पर धरने पर बैठीं विनेश फोगाट ने प्रेस ब्रीफिंग के दौरान कहा, ‘मैं कम से कम 10-12 महिला पहलवानों को जानती हूं जिन्होंने मुझे डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष के हाथों हुए यौन शोषण के बारे में बताया है। उन्होंने मुझे अपनी कहानियां सुनाईं. मैं अभी उनका नाम नहीं ले सकती, लेकिन मैं निश्चित रूप से नामों का खुलासा कर सकता हूं, अगर हम प्रधानमंत्री और देश के गृह मंत्री से मिलते हैं। अपने ऊपर लगाए जा रहे आरोपों को रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने खारिज किया है। उन्होंने कहा,’मेरे खिलाफ पहलवानों के आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है.।अगर यौन उत्पीड़न का एक मामला भी साबित हो जाता तो मैं फांसी के लिए तैयार हूं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here