जोशीमठ में वर्षा और भारी बर्फबारी के कारण आपदा राहत कार्यों पर ब्रेक

0
50

सीएम ने फिर की हालात की समीक्षा
अधिकारी हर स्थिति के लिए रहे तैयार
आपदा प्रभावितों की परेशानी का रखें ख्याल

देहरादून। राज्य के मौसम में आए बड़े बदलाव के कारण जोशीमठ आपदा प्रभावितों की मुश्किलों को बढ़ा दिया है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज फिर सचिवालय में अधिकारियों के साथ बैठक कर जोशीमठ के हालात की जानकारी ली। सीएम ने अधिकारियों को जरूरी दिशा निर्देश देते हुए कहा है कि वह प्रभावित लोगों के लिए जरूरतों के सामान की आपूर्ति को सुचारू बनाए रखना सुनिश्चित करें।
उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कल भी अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की थी। आज मुख्यमंत्री द्वारा अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वह आपदा प्रभावितों के लिए पर्याप्त भोजन और वस्त्रों आदि की व्यवस्था को दुरुस्त रखें, भीषण सर्दी से बचने के लिए उपाय किए जाएं तथा स्वास्थ्य सेवाओं को सुचारू रखा जाए जिससे अगर किसी की तबीयत बिगड़ने पर तुरंत इलाज मिल सके।
बीती रात से जोशीमठ में बारिश के साथ ही बर्फबारी का सिलसिला जारी है। जोशीमठ में हो रही बर्फबारी के कारण आपदा राहत के काम भी रोक दिए गए हैं। जोशीमठ में बीते 1 सप्ताह से जिन होटलों के डिस्मेंटल का काम चल रहा था खराब मौसम के कारण आज उसे रोकना पड़ा है, वही आवासीय बस्तियों में जर्जर भवनों को गिराने का काम भी फिलहाल रोक दिया गया है। इस बात की आशंका पहले ही से बनी हुई थी कि अगर क्षेत्र में बारिश और बर्फबारी होती है तो वह जोशीमठ की आपदा को और बढ़ा सकती है। यही कारण है कि प्रभावित क्षेत्र में जमीन में पड़ी दरारों को भरने का काम बीते कई दिनों से किया जा रहा था जिससे बारिश के पानी और बर्फ से यह दरारे और न चौड़ी हो तथा भू धसाव की गति और तेज न हो। हालांकि मौसम विभाग द्वारा 24 जनवरी से 27 जनवरी तक के लिए खराब मौसम की चेतावनी जारी की गई थी लेकिन 19 की रात से ही मौसम के बदल जाने से आपदा प्रभावितों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं।
बारिश व बर्फबारी के बीच बने हालात की जानकारी भी सीएम धामी द्वारा आज बैठक में ली गई है। उन्होंने कहा कि अधिकारी स्थिति पर हर समय नजर बनाए रखें तथा किसी भी समस्या से निपटने के लिए तैयार रहें। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि आने वाले दिनों में मौसम और भी अधिक खराब होने की संभावनाएं हैं। जिसके मद्देनजर एनडीआरएफ, एसडीआरएफ के साथ स्थानीय प्रशासन को भी सतर्क कर दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here