लोकायुक्त व एनआईटी के मुद्दों की सदन में गूंज

0
31

देहरादून। विधान सभा सत्र के तीसरे दिन आज आज सदन में लोकायुक्त और एनआईटी शिफ्टिंग के मुद्दों की गूंज सुनाई दी। सदन की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस ने कार्य स्थगन प्रस्ताव को लाकर लोकायुक्त पर चर्चा की मांग उठाई जिसे विधानसभा अध्यक्ष द्वारा अस्वीकार किये जाने पर कांग्रेसी विधायकोें ने वेल में आकर जोरदार हंगामा और नारेबाजी की।
कांग्रेसी विधायकों ने अपने पूर्व नियोजित रणनीति के तहत लोकायुक्त गठन का मुद्दा सदन में उठाते हुए नियम 310 के तहत चर्चा कराने की मांग की जिसे विधानसभा अध्यक्ष द्वारा नकार दिया गया तथा इस मुद्दे पर नियम 58 के तहत चर्चा कराया जाना स्वीकार किया। हालांकि कांग्रेसी नेताओं ने इसे लेकर काफी हंगामा किया लेकिन अध्यक्ष ने इसे नहंीं माना। संसदीय कार्यमंत्री प्रकाश पंत का कहना है कि इस मुद्दे पर सरकार कई बार अपना रूख स्पष्ट कर चुकी है लेकिन कांग्रेस हर बार इसे लेकर हंगामा करती है। उन्होने कहा कि लोकायुक्त की प्रक्रिया गतिमान है जबकि कांग्रेस का कहना है कि भ्रष्टाचार पर जीरों टालरेंस की बात करने वाली सरकार इस लोकायुक्त बिल को जान बूझ कर लटकाये रखना चाहती है। इस दौरान विधायक करन मेहरा और प्रकाश पंत के बीच नोंक झोंक भी हुई मेहरा का कहना है कि नियम कानूनों के साथ विधायकों को सरकार से अपने सवाल पूछने का संवैधानिक अधिकार है।
आज कांग्रेसी विधायकों द्वारा एनआईटी श्रीनगर को शिफ्ट किये जाने के लिए सरकार की घेराबंदी की गयी। जिस पर उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत ने कहा कि एनआईटी को कहीं भी शिफ्ट नहीं किया जायेगा। उन्होने कहा कि सिर्फ छात्रों को एनआईटी जयपुर शिफ्ट किया गया है। उन्होने कहा कि अभी भी 400 छात्र एनआईटी श्रीनगर में पढ़ रहे है साथ ही उन्होने कहा कि श्रीनगर में सरकार ने 122 एकड़ जमीन उपलब्ध करा दी है जहंा अगले दो साल में सभी सुविधाएं उपलब्ध करा दी जायेगी।
सदन में आज भाजपा विधायक सुरेन्द्र सिंह जीना ने राज्य के स्कूलों में शिक्षकों की कमी और शिक्षा स्तर खराब होने का सवाल उठाया जिस पर शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने 15 दिन के अंदर गेस्ट टीचर की नियुक्ति करने का भरोसा दिलाया। उल्लेखनीय है कि हाईकोर्ट के आदेशों के बावजूद भी स्कूलों में गेस्ट टीचर नियुक्त नहीं किये जा सके है।

LEAVE A REPLY