जब कहा ऐक्टर बनना है तो दादी ने थप्पड़ मारा था: आयुष्मान

0
9

आयुष्मान खुराना ने कभी रेडियो जॉकी और वीजे के तौर पर अपना करियर शुरू किया था, लेकिन अब वह बॉलिवुड का जानामाना नाम हैं। आयुष्मान खुराना के लिए यह सफर आसान नहीं रहा:
आयुष्मान खुराना की आने वाली फिल्म बधाई हो इन दिनों चर्चा में है। इससे पहले उनकी अधिकतर सभी फिल्में चर्चा में रही हैं। इसकी वजह वे विषय भी हो सकते हैं जो वह चुनते हैं। आयुष्मान बताते हैं कि जब उन्होंने दादी से कहा था कि उन्हें ऐक्टर बनना है तो दादी ने थप्पड़ मार दिया था। इसकी वजह यह थी कि उस वक्त ऐक्टिंग अच्छा प्रफेशन नहीं माना जाता था। न ही वह ऐसा करियर था जिसमें स्थिरता हो। वह कहते हैं, मैं पढ़ाई में अच्छा था, मैंने केमिस्ट्री और बायॉलजी की पढ़ाई की, 11वीं क्लास तक मेरा मकसद मेडिकल फील्ड में जाना था। मैंने कर्नाटक के डेंटल कॉलेज में ऐडमिशन ले लिया था लेकिन इससे पहले मैंने आर्किटेक्ट या वकील बनने का सपना भी देखा। पर कहीं मन में ऐसा ख्याल था कि मुझे ऐक्टर बनना है। जब एक दिन मैंने डैड को यह बात कही तो उन्होंने कहा कि हाईस्कूल से सीधे वहां नहीं जा सकते। लेकिन मैं अच्छी पढ़ाई करता रहा तो वह मुझे ऐक्टिंग की फील्ड में जाने देंगे।
शाहरुख खान के कदमों पर चला
आयुष्मान बताते हैं कि कैसे वह कॉलेज के ऑलराउंडर बन गए। वह कहते हैं, हम ट्रोफी लेकर लौटे और प्रिसिंपल ने खुश होकर हमें 2,००० रुपये दिए। मैंने मां को अपनी पहली सैलरी दी और उन्होंने मुझे लौटा दी। सब खुश थे, फाइनल इयर में मुझे ऑलराउंडर स्टूडेंट का खिताब मिला। तब मैंने पंजाब यूनिवर्सिटी में ही मास कम्युनिकेशन और प्रिंट जर्नलिजम के कोर्स में ऐडमिशन ले लिया क्योंकि डैड चाहते थे कि अगर ऐक्टर न बन सकूं तो भी मेरी एजुकेशन बढिय़ा रहे। मैं जानता था कि ऐसा करके मैं शाहरुख खान के कदमों पर चलने की कोशिश कर रहा था क्योंकि उन्होंने भी ऐक्टिंग को करियर बनाने से पहले मास कम्युनिकेशन की पढ़ाई की थी। वह मेरे आइडल हैं और खूब पढ़े-लिखे ऐक्टर भी हैं।
कॉलेज में ऐक्टिंग का मौका
हालांकि इसके बाद भी करियर बनाना इतना आसान नहीं रहा। आयुष्मान कहते हैं, मैंने थिअटर कॉलेज में शुरू किया लेकिन शर्त यह थी कि कॉलेज में मेरी अटेंडेंस पूरी 1०० फीसदी होनी चाहिए और इस तरह मैं टॉपर्स में रहा। मैंने लोकल थिअटर फेस्टिवल में जाना शुरू कर दिया और अपना ग्रुप भी बना लिया। उसका नाम रखा मंचतंत्र। बाद में आगाज थिअटर ग्रुप डीएवी कॉलेज चंडीगढ़ का फाउंडर मेंबर भी रहा। हम कुछ स्टूडेंट्स ने मिलकर पूरे देश में घूमना शुरू किया, हम आईआईटी पवई और बिट्स पिलानी के कॉलेज फेस्ट तक गए। कुछ और थिअटर ग्रुप से संपर्क हुआ तो पता चला हम कितने खराब थे। बिट्स में हम ऑल बॉयस ऐनुअल फेस्ट ओयसिस भी शामिल हुए। वहां मैंने देखा कि लड़कियां और लड़के साथ रहते हैं, स्मोकिंग करते हैं और स्टेज पर बढिय़ा परफॉर्म भी करते हैं। यह कल्चर शॉक था। हम सफेद शर्ट और काली पेंट पहनकर वेटर लग रहे थे और हमें हूटिंग करके स्टेज से हटाया गया। चंडीगढ़ लौटकर हमने अपने प्ले सुधारे अगले साल पवई में पहला नॉन मेट्रो सिटी वाला कॉलेज अवॉर्ड जीता। यह मेरे लिए टर्निंग पॉइंट था। मुझे अब तक वह साल 2००2 याद है।(आरएनएस)

LEAVE A REPLY