पहाड़ पर आफत की बारिश

0
9

चारधाम यात्रा पर लगा ब्रेक, जगह जगह फंसे यात्री
भूस्खलन से रास्ते बंद, नदियों और नालों में उफान
देहरादून। कहीं भारी वर्षा तो कहीं बर्फबारी। कहीं भूस्खलन तो कहीं जलभराव और बाढ़ जैसे हालात, बीते चार दिनों से आसमान से बरस रही आफत के कारण सूबे का हाल बेहाल है। चारधाम यात्र पर ब्रेक लग गया है वहीं जलभराव और भारी बारिश के कारण फसलें तबाह हो रही हैं।
मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुरूप राज्य में पिछले 48 घंटे से ताबड़तोड़ बारिश का क्रम जारी है। राजधानी दून सहित राज्य के छह-सात जिलों में लगातार हो रही बारिश के कारण जनजीवन पूरी तरह अस्त व्यस्त हो चुका है। रूद्रप्रयाग से प्राप्त समाचारों के अनुसार केदारनाथ धाम में हो रही भारी बारिश और बर्फबारी के कारण गौरीकुंड और सोनप्रयाग में यात्रियों को रोक लिया गया है। उधर डबरानी और डबरकोट में हो रहे भूस्खलन के कारण गंगोत्री और यमुनोत्री हाइवे भी बंद हो गये हैं। वहीं चमोली से प्राप्त समाचारों के अनुसार लामबगड़ और हनुमानचट्टी में भारी भूस्खलन के कारण मार्ग बाधित हो गया है जिसके कारण बद्रीनाथ यात्र पर ब्रेक लग गया है। भारी बारिश के कारण सड़कों को खोलने का काम भी नहीं हो पा रहा है। यात्र मार्गों पर हजारों की संख्या में श्रद्वालु फंसे हुए हैं। स्थानीय प्रशासन द्वारा इन यात्रियों को मौसम साफ होने के बाद ही आगे जाने दिया जाएगा। वहीं मौसम विभाग ने आगामी दो दिनों तक मौसम ऐसा ही रहने की संभावना जताई है।
नैनीताल से प्राप्त समाचारों के अनुसार पिछले दो दिनों से यहां भारी बारिश हो रही है। रामनगर के धनगढी नाले में आये उफान में एक कार बह गयी जिसमें सवार चार शिक्षकोें को जैसे तैसे बचाया जा सका। चंपावत से प्राप्त समाचारों के अनुसार यहां भी भारी बारिश के कारण नदी नाले उफान पर हैं। ऑलवेदर रोड पर भूस्खलन के कारण हल्द्वानी से यातायात को डाइवर्ट किया गया है। राज्य के ऊंचे पर्वतीय क्षेत्रेें में भारी बर्फबारी हो रही है। गंगोत्री और केदारनाथ घाटी में भारी बर्फबारी से रास्ते बंद हो गये हैं। बागेश्वर में भी भारी बारिश से जनजीवन प्रभावित हुआ है वहीं पौडी में भी भारी बारिश का क्रम जारी है। खास बात यह है कि अभी एक सप्ताह तक सूबे के लोगों को आसमान से बरस रही इस आफत से निजात नहीं मिल सकेगी।

LEAVE A REPLY