पापा की हर राय को गंभीरता से लेती हूं: श्रद्धा

0
4

श्रद्धा कपूर का सितारा इन दिनों बुलंदियों पर है। उनकी हालिया रिलीज स्त्री ने बॉक्स ऑफिस पर पैसों की बारिश कर उन्हें खूब वाह-वाही दिलवाई। इन दिनों वह चर्चा में हैं अपनी ह्वड्र्ढं द्घद्बक्तङ्घद्ग बत्ती गुल मीटर चालू से। उनसे एक खास बातचीत:
आपकी स्त्री बॉक्स ऑफिस पर काफी धूम मचाई। आप भूत-प्रेत में कितना यकीन करती हैं?
मैं इन चीजों में इतना भरोसा नहीं करती पर मेरे हिसाब से कोई एनर्जी जरूर हमारे आस-पास होती है। मुझे बचपन में भूत-प्रेत नहीं बल्कि अडवेंचर का बेहद शौक था। बच्चों की कल्पनाशक्ति काफी अडवेंचर्स होती है। मैंने बचपन में अपना क्लब खोल लिया था। मेरी बिल्डिंग के कई दोस्त मेरे क्लब का हिस्सा थे और मैं उस क्लब की प्रेजिड़ेंट हुआ करती थी। हम उस समय मैं अपने मन से अडवेंचर्स कहानियां बनाकर उन्हें खुद सुलझाया करती थी।
अभिनेत्री के रूप में अपनी जमीन पुख्ता करने के बाद पिता (शक्ति कपूर) और बेटी में किस तरह की गुफ्तगू होती है?
जैसे हर रिश्ते में बदलाव आता है, ठीक उसी तरह हमारे संबंधों में भी काफी बदलाव आया है। मैं पापा की हर राय को गंभीरता से लेती हूं, चाहे वह फिल्म के लिए हो या जीवन के लिए, क्योंकि मुझे यकीन है कि वह मेरे पिता हैं, तो मेरा अच्छा ही सोचेंगे। वह मुझे हर चीज के लिए प्रोत्साहित करते हैं। पापा मुझे हमेशा यही कहते है कि आपको जीवन में जो करना है, करो बस खुश रहो। पापा ने हमेशा मेरी हर फिल्म की तारीफ की है, मगर जब भी मैं घर थकहार कर आती हूं, तो पापा जोर से गले लगा कर कहते हैं, मेरा बच्चा थक गया, जाओ सो जाओ। पापा की झप्पी मुझमें पूरी एनर्जी भर देती है।
आपकी फिल्म हैदर हो या स्त्री या फिर बत्ती गुल मीटर चालू, किसी न किसी मुद्दे पर आधारित रही है। आपके हिसाब से और कौन से मुद्दे हैं, जिन पर फिल्में बननी चाहिए?
ऐसी कई समस्याएं हैं, जैसे जेंडर इच्ेलिटी, औरतों की सुरक्षा और साथ ही उनके सपनों को पूरा करना। इसके अलावा देश की सबसे बड़ी समस्या यह है कि लोग क्या कहेंगे? आम तौर पर रात में लड़कों को घर से बाहर जाने दिया जाता है, मगर लड़कियों को रोका-टोका जाता है। मेरे कई दोस्त हैं, जिनके जीवन में जेंडर इच्ेलिटी के कारण कई समस्याएं रही हैं। मैं खुद को फेमिनिस्ट मानने के बजाय ह्यूमेनिस्ट कहलाना पसंद करती हूं। मैं स्त्री और पुरुष दोनों को समान मानती हूं। जेंडर इच्ेलिटी पर फिल्म करने का मौका मिला, तो मैं जरूर करना चाहूंगी।
शाहिद के साथ बतौर साथी कलाकर काम करते हुए आपका रिश्ता कितना संवरा? आप उनके साथ इससे पहले हैदर में काम कर चुकी हैं।
सेट पर अगर हम पहले से ही किसी को जानते हैं, तो एक अच्छा कम्फर्ट लेवल बन जाता है। हमने साथ में हैदर भी की है और हम एक -दूसरे को जानते भी हैं। मैं उनको अपना दोस्त भी मानती हूं। फिल्म की कहानी को लेकर हम दोनों में काफी उत्सुकता थी। फिल्म की कहानी काफी हट कर है और एक मुद्दे से जुड़ी हुई है। फिल्म में हमारा किरदार भी काफी अलग है। (आरएनएस)

LEAVE A REPLY