बेटे की मौत पर न्याय की गुहार

0
9

पीड़ित पिता ने पुलिस पर लगाया लीपापोती का आरोप

एनएच 74 घोटाले में दो सीनियर अधिकारी चन्द्रेश यादव व पकंज पांडे संस्पेड
अपराध संवाददाता
देहरादून। बेटे की संदिग्ध हालात में हुई मौत के मामले की जांच में पुलिस द्वारा की जा रही हीला हवाली से परेशान पिता दर दर की ठोकरे खाने पर विवश है। कहीं भी सुनवाई न होने पर आज वह राजधानी दून स्थित डीआईजी गढ़वाल रेंज कार्यालय पहुंचा और न्याय की गुहार लगाई।
डीआईजी गढ़वाल रेंज कार्यालय को दिये गये प्रार्थना पत्र के अनुसार सतपुली पौड़ी गढ़वाल निवासी अमीर चन्द का कहना है कि बीती 4 जुलाई की रात उनके फोन पर उनके बेटे राजेश चन्द्र का फोन आया और उसने अपने घायल होने की बात कही। इसके बाद जिस बैंक में वह नौकरी करता था उसके प्रबन्धक अनुराग पुण्डीर नामक व्यक्ति ने उसी फोन से कहा कि वह उनके बेटे को लेकर आ रहे है आप रास्ते में आ जाओ। जिसके बाद अमीर चन्द बताये गये स्थान पर पहुंचा तो उसे वहां शाखा प्रबन्धक अनुराग पुण्डीर व उसका ड्राईवर तो मिला लेकिन उनका पुत्र नहीं मिला जिसके बारे में पूछा गया तो उन्होने बताया कि वह चला गया। पीडि़त अमीर चन्द का कहना है कि सुबह पुलिस ने उनको उनके पुत्र का शव मिलने की सूचना दी। बताया कि पोस्टर्माटम रिपोर्ट में भी कोई नशा करने की पुष्टि नहीं हुई है। वहीं मृतक का फोन भी बरामद नहीं हुआ है। इन सब बातों को देखते हुए उन्होने लैन्सडाउन थाने में शाखा प्रबन्धक, उसके ड्राईवर, एक युवक बन्टी व मृतक धीरेन्द्र पंवार के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करने की तहरीर दी थी। लेकिन पुलिस द्वारा अब तक उस पर कोई कार्यवाही नहीं की गयी। उन्होने कहा कि उनके पुत्र की मृत्यू होने से पहले यह सब लोग उसके साथ थे। जिस बारे में पुलिस द्वारा कोई जांच नहीं की गयी और न ही मृतक का फोन अब तक बरामद किया जा सका है। उन्होने डीआईजी गढ़वाल अजय रौतेला से न्याय की मांग कर जल्द जांच कराने की मांग की है।

LEAVE A REPLY