चमोली में बादल फटने से तबाही

0
8

चार गोशालाएं मलबे में दबी, कई मवेशियों के मरने की आशंका
भूस्खलन से गंगोत्री और बद्रीनाथ हाइवे बंद, यात्री परेशान 
देहरादून। भलेे ही राज्य में हो रही मानसूनी बारिश में कुछ हद तक कमी आई हो लेकिन आपदा का कहर अभी भी जारी है। बीती रात चमोली में बादल फटने से भारी तबाही देखने को मिली वहीं पहाडों से हो रहे भूस्खलन के कारण बद्रीनाथ और गंगोत्री हाइवे एक बार फिर बंद हो गये हैं। इन मार्गों पर बडी संख्या में वाहन और यात्री फंसे हुए हैं।
बीती रात चमोली के घाट ब्लॉक के अस्तोली संगोडा गांव में बादल फटने से भारी तबाही होने का समाचार है। रात तीन और चार बजे के बीच हुई इस घटना के दौरान पहाड से आये मलबे में चार गोशालाओं को भारी नुकसान हुआ है और इनमें कई मवेशियों के दब कर मर जाने की खबर है वहीं पानी के तेज बहाव के कारण बडे क्षेत्रफल में खेतों के बह जाने से भारी नुकसान हुआ है। तहसील प्रशासन की टीम मौके पर पहुंचकर नुकसान का आंकलन कर रही है और पीडितों को अनुमन्य सहायता राशि बांट रहा है। पुलिस और एसटीएफ की टीमें भी बचाव व राहत कार्य में लगी है। इस घटना में जनहानि की कोई सूचना नहीं है।
उधर प्राप्त समाचार के अनुसार गंगानी और बडरानी के बीच हुए भूस्खलन से गंगोत्री हाइवे पर यातायात पूरी तरह अवरूद्व हो गया हैै। मार्ग पर दोनों ओर यात्री और वाहन फंसे हुए हैं तथा श्रद्वालु गंगोत्री धाम नहीं पहुंच पा रहे हैं। उधर चमोली में लामबगड औैर पांडुकेश्वर के आसपास हुए भारी भूस्खलन के कारण बद्रीनाथ हाइवे बंद हो गया है। मार्ग के दोनों ओर यात्रियों व वाहनों की कतारें लगी हुई हैं। राज्य में बरसात में थोडी कमी जरूर आई है लेकिन इसके बावजूद भी भूस्खलन की घटनाएं लगातार जारी हैं। जहां मौसम साफ है वहां भी धूप निकलने के बाद पहाड दरक रहे हैं जिससे लोगों को भारी परेशानी उठानी पड रही हैं।

LEAVE A REPLY